✽ रोजाना नई हिन्दी सेक्स कहानियाँ ✽

loading...

शीला की जवानी को लूटा

0
loading...

प्रेषक : राहुल …

हैल्लो दोस्तों, में चोदन डॉट कॉम का नियमित पाठक हूँ। आज में आप सबको मेरी एक और सच्ची कहानी बताता हूँ। मेरी उम्र 49 साल है, मेरी हाईट 6 फुट 1 इंच है और मेरा लंड 9 इंच लम्बा और 3 इंच मोटा है। में उन दिनों सर्विस करता था और मैंने रहने के लिए एक रूम किराए पर ले रखा था। में जिसके मकान में रहता था, वो मेरे ही ऑफिस में काम करने वाले मेरे सीनियर बॉस का मकान था। उसके एक लड़की थी शीला, जो 19 साल की थी और उसकी बीवी 40 साल की थी और लड़का 24 साल का था। उनका लड़का शादीशुदा था और उसकी बीवी की उम्र 21 साल थी। मेरे बॉस की बीवी धार्मिक मिज़ाज की थी और उनकी लड़की काफ़ी मॉडर्न थी। उनके लड़के की बीवी का नाम आशा था और वो कभी-कभी ही अपने पति के साथ घर आती थी, आशा अपने पति के साथ ही रहती थी।

दोस्तों में दिन में ऑफिस में ही रहता था और शाम को बॉस के साथ घर आता था। मेरा बॉस काफ़ी शकी मिज़ाज का था। में जब नीचे आता तो वो मुझ पर नजर रखता था। फिर एक बार मेरे बॉस को ऑफिस के काम से 18-20 दिनों के लिए बाहर जाना पड़ा। फिर मेरे मन में आया कि इस शक्की बूढ़े के घर की किसी भी औरत को चोद दूँ। बूढी तो धार्मिक थी सो वो तो रिजेक्ट हो गई, लेकिन अब मेरा शीला पर मन आ गया था तो मैंने शीला की तरफ नजर डालनी शुरू की। फिर रात को जब में सोने लगा तो मैंने सोचा कि प्लान बनाने के लिए बुढ़िया से पूछ लूँ कि में नीचे सो जाऊं। फिर में नीचे आया और फिर मैंने बुढिया से पूछा कि आंटी जी आप चाहे तो में नीचे यहाँ बरामदे में सो जाऊं, आपको डर नहीं लगेगा और चोरी का डर भी नहीं रहेगा।

तब बुढिया ने मुझसे कहा कि अरे नहीं कमल, मुझको डर नहीं लगता, हाँ तू शीला को कुछ देर पढ़ा देना, अगर उसको कुछ पूछना हो तो, वैसे तो वो तेरे अंकल से पढ़ती है, लेकिन आज वो नहीं है तो तू ही सही। अब मेरी तो जैसे मुराद ही पूरी हो गई थी। अब में भी थी चाहता था कि में शीला के साथ अकेले में मिलूं और उससे बोला कि ठीक है आंटी जी, आप शीला को मेरे पास भेज देना। में उसको अच्छे से पढ़ा दूंगा और यह कहकर मेरे रूम में ऊपर चला गया। फिर कोई 5 मिनट के बाद शीला मेरे रूम में आई, उसके पास उसकी बुक्स थी और उसने ढीली शर्ट और पजामा पहना था, उसकी शर्ट ओपन थी और ऊपर के दो बटन खुले हुए थे। अब उसकी हालत देखकर में समझ गया था कि शीला तो खुद ही सेक्स के लिए तरस रही है। फिर मैंने पूछा कि आ गई शीला? तो तब उसने मुझसे कहा कि हाँ भैया जी में आ गई, माँ सो गई है और अब आपको मेरे साथ जागना है।

फिर तब में बोला कि तू मुझको जागने के लिए कह रही है, में सोच रहा हूँ कि तेरी नींद हराम कर दूँ और यह कहकर मैंने शीला का एक हाथ पकड़ा और उसको अपने नजदीक बैठा लिया और उसकी कमर में अपना एक हाथ डाला। फिर तब शीला ने कहा कि जल्दी ना करो, थोड़ी देर मुझको पढ़ाओ तब तक माँ सो जाएगी फिर तब कुछ करना, में तो आपके लिए तैयार हूँ और फिर वो मेरे पास बैठ गई। फिर यही कोई 1 घंटे तक पढ़ने के बाद वो उठी और नीचे जाकर अपनी माँ को देखकर आई। अब उसने अपनी शर्ट के सारे बटन खोले हुए थे और उसकी ब्रा में से उसकी चूचीयाँ काफ़ी भारी दिखाई दे रही थी और फिर वापस आकर बोली कि कमल यार माँ तो सो गई है, अब सुबह तक कोई डर नहीं है और मुझसे लिपट गई। फिर मैंने भी शीला को कसकर पकड़ लिया और उसकी गांड और पीठ पर अपने हाथ फैरने लगा था। अब में शीला को चूम रहा था और शीला मुझको चूम रही थी और ज़ोर-ज़ोर से सिसक रही थी।

फिर मैंने शीला का पजामा नीचे किया और उसकी नंगी गांड पर अपना हाथ फैरने लगा था। फिर शीला ने मेरे पजामें का नाड़ा खोला और बोली कि कमल आपका हथियार तो दिखाओ। मैंने काफ़ी बार इसको आपकी पेंट में से देखा है और यह कहकर उसने मेरा पजामा और अंडरवियर उतार दिया। मेरा लंड देखकर वो चीख ही पड़ी और बोली कि कमल यह तो बहुत बड़ा है, आपको तो चोदने के लिए लड़की नहीं कोई घोड़ी चाहिए, लड़की तो मर ही जाएगी। तब में बोला कि नहीं शीला, मेरे लंड से कोई लड़की नहीं मरी और तू तो इससे कभी नहीं मरेगी, तुझको तो बहुत मज़ा आएगा और यह कहकर मैंने शीला का पजामा उतार दिया और उसकी ब्रा भी उतार दी थी। अब शीला का नंगा बदन देखकर में तो जैसे मस्ती में पागल ही हो गया था, बड़ी-बड़ी चूचीयाँ, पतली कमर, भारी चूतड़ वाउ क्या सेक्सी फिगर था उसका?

loading...

फिर मैंने उससे पूछा कि शीला अगर तुझको मज़ा लेना है तो मुझको बता तू कितनी बार चुदी है? तो तब वो बोली कि कमल में अब तक यही कोई 10 बार चुद गई हूँ, लेकिन मैंने आपके जितना बड़ा लंड किसी आदमी का नहीं देखा। फिर मैंने शीला से कहा कि वो मेरा लंड चूसे और में उसकी चूत चूसूगा। तो वो झट से मान गई और में बेड पर लेट गया। फिर शीला 69 की पोज़िशन में मेरे ऊपर आई और मेरे लंड को अपने मुँह में ले लिया। फिर मैंने भी शीला की गीली-गीली चूत चाटनी और चूसनी शुरू कर दी और वो मेरा लंड चूस रही थी। अब मेरा लंड काफ़ी सख्त हो गया था। फिर तभी थोड़ी देर के बाद शीला की चूत ने अपना पानी छोड़ दिया और बोली कि भाई आपने तो मेरा पानी ही निकाल दिया और फिर से मेरा लंड चूसने लगी। फिर मैंने शीला की चूत चूसकर उसकी गांड में अपनी एक उंगली डाल दी और उससे कहा कि शीला यह तो कुछ नहीं है आगे-आगे देख अब में क्या करता हूँ? और फिर थोड़ी देर तक उसकी चूत चूसने के बाद मैंने उसको बेड पर नीचे किया और उसकी दोनों टाँगें अपने मजबूत कंधो पर रखी और उसकी चूत में अपना लंड डाल दिया।

फिर वो थोड़ी सी सिसकी और बोली कि कमल बहुत गर्म मोटा और सख्त है, इतना तो मैंने कभी नहीं लिया, हाईई। फिर तब मैंने कहा कि शीला आज ले लिया ना, आज के बाद तुझको किसी भी लंड से कोई तकलीफ नहीं होगी। फिर में शीला को चोदता रहा और वो ज़ोर-ज़ोर से सिसकती रही और मुझको किस कर रही थी और मेरे कान और गर्दन पर काट रही थी। अब में भी शीला को किस कर रहा था और काट रहा था। फिर यही कोई 1 घंटे के बाद में उससे अलग हुआ। अब शीला लंबी-लंबी सांसे ले रही थी और अपनी दोनों टाँगे फैलाकर लेटी थी। अब में शीला की चूचीयाँ दबा रहा था और उसकी चूत पर अपना एक हाथ फैर रहा था। फिर थोड़ी देर के बाद शीला हल्की हुई और मेरे पेट पर अपने घुटने रखकर मुझको किस करने लगी थी। तब मैंने शीला से पूछा कि कैसा लगा शीला? तो तब वो बोली कि मज़ा आ गया, कमल ऐसा मज़ा तो मुझको आज से पहले कभी भी नहीं आया था। दोस्तों ये कहानी आप चोदन डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

फिर तब में बोला कि एक बात पूंछू शीला? तो तब वो बोली कि हाँ पूछो कमल। तब मैंने कहा कि तू पहली बार किससे और कैसे चुदी थी? तो तब शीला बोली कि कमल में पहली बार आज से यही कोई 1 साल पहले मेरी सहेली के भाई से चुदी थी। में उसके घर रोजाना जाती थी और वो मेरे साथ बातें करता था, वो कभी-कभी अकेले में मुझको पकड़ भी लेता था, लेकिन ज्यादा कुछ नहीं करता था। फिर एक दिन में उसके घर गई, जब मेरी सहेली बाहर गई थी, मुझको पता था वो नहीं है, लेकिन में तो उसके भाई से मिलना चाहती थी, वो घर में अकेला था। फिर हाए हैल्लो के बाद मैंने पूछा कि उसकी बहन कहाँ है? तो तब उसने बताया कि वो बाहर गई है। फिर तब मैंने पूछा कि कितनी देर में आएगी? तो तब उसने बताया कि वो आने वाली है। फिर वो मेरे पास आया और मुझको पकड़ लिया। फिर मैंने कोई विरोध नहीं किया, तो बस फिर उसने तो मुझको किस करना शुरू कर दिया और मेरे बूब्स पकड़ लिए। मुझको भी अच्छा लगा तो में भी उसका साथ देने लगी और उसको किस करने लगी थी।

loading...

फिर उसने मुझको घोड़ी की तरह किया और मेरी चुदाई करनी शुरू कर दी। एक बार मुझको दर्द भी हुआ, लेकिन बाद में बहुत मज़ा आया था। फिर हमें जब भी कोई मौका मिलता था, तो वो मुझको चोदता था। फिर एक दिन उसने मुझसे कहा कि अगर असली मज़ा लेना है तो मेरा कहना मान जा, बहुत मज़ा आएगा। फिर उस दिन मैंने उसको पूरा नंगा देखा और उसने मुझको। फिर हम दोनों ने 69 की पोज़िशन में एक दूसरे के चूत लंड को चूसा और फिर शीला ने मुझको सब कुछ बताया। फिर मैंने शीला से पूछा कि तूने गांड भी मरवाई है क्या? तो तब वो बोली कि नहीं कमल, गांड नहीं मरवाई। तो तब में बोला कि आज मरवाकर देख चूत से ज्यादा मज़ा आएगा, ना बच्चा लगेगा और ना ही कोई बीमारी होगी और यह कहकर मैंने शीला को मेरा लंड चुसवाया और उसकी गांड में अपनी एक उंगली करने लगा। फिर थोड़ी देर के बाद उसने मेरा लंड अपने थूक से बहुत गीला कर दिया।

फिर मैंने उसको कुतिया की तरह किया और उसकी गांड में अपना लंड डाल दिया। मुझको पता था लंड का टोपा अंदर जाते ही वो भागेगी, तो मैंने उसकी कमर पकड़ ली थी और उसको भागने नहीं दिया था। अब उसको बहुत दर्द हुआ था, लेकिन मैंने उसको नहीं छोड़ा और अपना पूरा लंड उसकी गांड में दो ही धक्कों में डाल दिया। फिर यही कोई 10 मिनट के बाद शीला को भी मज़ा आने लगा और फिर उसने अपना शरीर ढीला छोड़ दिया और अब वो भी मेरा साथ देकर मुझसे चुदवाने लगी थी। फिर दोस्तों हम दोनों को जब कभी भी कोई मौका मिला तो हमने चुदाई का भरपूर आनंद लिया ।।

धन्यवाद …

इस कहानी को Whatsapp और Facebook पर शेयर करें ...

Comments are closed.