✽ रोजाना नई हिन्दी सेक्स कहानियाँ ✽

loading...

साली के सामने बीवी की चुदाई

0
loading...

प्रेषक : जॉनी …

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम जॉनी है, में महाराष्ट्र का रहने वाला हूँ, मेरी उम्र 29 साल है, मेरी हाईट 5 फुट 8 इंच है, मेरा लंड 6 इंच लम्बा और 3 इंच मोटा है, में शादिशुदा हूँ और मेरे 2 बच्चे है। में पिछले 2 महीने से चोदन डॉट कॉम का पाठक हूँ इसलिए मैंने सोचा कि मुझे भी अपना अनुभव आप लोगों के शेयर करना चाहिए। आपको आश्चर्य होगा कि अब तक मेरी पत्नी को छोड़कर मेरा किसी से यौन संबंध नहीं है, लेकिन में हमेशा से किसी लड़की या औरत के साथ सेक्स करना चाहता हूँ, लेकिन शुरुआत करने की मेरी हिम्मत नहीं है। में हमेशा कुछ लड़कियों के बारे में सोचता हूँ जिनके बारे में मुझे पता है, लेकिन मुझे यह नहीं पता कि कैसे शुरू करूँ? तो में अपनी पत्नी के साथ केवल सेक्स करता हूँ। अब में आपका ज्यादा समय ख़राब ना करते हुए सीधा अपनी स्टोरी पर आता हूँ।

फिर में एक बार अपने सुसराल अपनी पत्नी को लेने गया हुआ था तो मुझे रात को वही पर रुकना पड़ गया। मेरे 3 सालियाँ है, वो तीनों ही एक से बढ़कर एक सुंदर और सेक्सी है। मेरी 2 सालियाँ ग्रेजुएशन पूरी कर चुकी है और तीसरी अभी फाइनल ईयर में है। वो तीनों ही मेरी बहुत इज़्जत करती है और मेरे साथ काफ़ी घुली मिली हुई है। अब में रात को ही वापस जाने की ज़िद कर रहा था, जबकि मेरे सुसराल वाले सुबह भेजने की ज़िद कर रहे थे। फिर मेरी सबसे छोटी साली बोली कि जीजाजी, ऐसी भी क्या जल्दी है? कल चले जाना। तो मैंने कहा कि तू क्या समझेगी मेरी मजबूरी। तो तब वो बोली कि क्या बात है? इतने बेताब क्यों हो? एक रात का भी सब्र नहीं है क्या? तो मैंने कहा नहीं है, क्योंकि मेरे सुसराल में पत्नी और में एक साथ नहीं सोते है। तो तब छोटी साली बोली कि जीजाजी आप चिंता मत करो, में आपकी इच्छा यही पूरी करवा दूंगी, तो तब तो सुबह चले जाओगे ना? तो मैंने कहा कि हाँ तब ठीक है, लेकिन भूल नहीं जाना। तो तब वो बोली कि अब आप निश्चिंत हो जाओ। अब बाकी का काम मेरा है

मेरी तीनों सालियाँ एक ही कमरे में सोती है और मेरी पत्नी अपनी मम्मी के साथ सोती थी। फिर मेरी छोटी साली ने मेरी पत्नी को बात करने के बहाने से अपने कमरे में बुला लिया और बोली कि दीदी कल तो तू चली जाएगी, आज रात को हम बहुत सारी बातें करेंगे, तो मेरी पत्नी तैयार हो गई। फिर उसने मुझे भी अपने कमरे में बुला लिया। यह सर्दियों की बात थी, उस कमरे में एक डबल बेड था जिस पर मेरी तीनों सालियाँ सोती थी। फिर जब में कमरे में गया, तो मेरी बड़ी साली बोली कि जीजाजी आप और जीजी डबल बेड पर सो जाओं, हम कमरे में ही चारपाई डालकर सो जाएँगे। तो मेरी पत्नी शर्मा गई और बोली कि तू पागल तो नहीं है, ये यहाँ नहीं सोएंगे।

loading...

फिर तब मेरी छोटी साली बोली कि हम तो जीजाजी से बात करेंगे, जीजाजी आप इधर ही बैठ जाओ और फिर उसने कमरे में ही दो चारपाई पर बिस्तर लगा दिया और रजाई रख दी। अब डबल बेड पर मेरी तीनों सालियाँ बैठी थी और में भी वही पर बैठा था। फिर मेरी पत्नी डबल बेड से उठकर अगली चारपाई पर रजाई ओढ़कर बैठ गई। अब हम अंताक्षरी खेलने लगे थे। अब एक टीम मेरी और मेरी पत्नी की थी और दूसरी टीम तीनों सालियों की थी। अब रात के 12 बज चुके थे। फिर मैंने कहा कि अब मुझे नींद आ रही है, लाईट बंद कर दो और तुम सब भी सो जाओ और ऐसा कहकर में अगली चारपाई पर जाकर लेट गया, लेकिन मेरी पत्नी ने कहा कि आप सो जाओ, हम चारों बहने बातें करेंगे। फिर लाईट बंद करके वो सब लेट गये और बातें करती रही। अब में सबसे लास्ट वाली चारपाई पर था और उससे अगली चारपाई पर मेरी पत्नी थी, जब मेरी पत्नी ने नाइटी पहन रखी थी। अब डबल बेड पर किनारे पर मेरी सबसे छोटी साली सो रही थी और उसके आगे बीच वाली और लास्ट में सबसे बड़ी साली थी। दोस्तों ये कहानी आप चोदन डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

अब बाहर बरामदे में लाईट जल रही थी तो उसकी हल्की सी रोशनी कमरे में आ रही थी। अब में बीच- बीच में मेरी पत्नी को पैर लगा रहा था। अब मेरी छोटी साली सब देख रही थी। फिर वो मेरी बेताबी को समझते हुए बोली कि जीजाजी को नींद आ रही है, उन्हें डिस्टर्ब मत करो और चुपचाप सो जाओं। फिर कुछ देर के बाद सब चुप हो गये, तो में अपना एक हाथ मेरी पत्नी की रजाई में डालकर उसकी चूची मसलने लगा तो मेरी पत्नी ने 1-2 बार मेरा हाथ हटाया, क्योंकि उसको शक था कि अभी सालियाँ सोई नहीं है, लेकिन फिर वो भी मज़े लेने लगी थी। तो तब में उसकी नाइटी को ऊपर उठाकर उसकी चूत को सहलाने लगा और अपने दूसरे हाथ से उसकी चूची दबाने लगा था। फिर थोड़ी देर में ही वो गर्म हो गई। तो तब में उसकी चारपाई पर आकर उसकी रजाई में घुस गया। तो तब मेरी पत्नी बोली कि ये अभी सोई नहीं होगी, इसलिए आप अपने बेड पर चले जाओं। तो मैंने कहा कि नहीं वो सब सो चुके है और फिर में उसके होंठो को पागलों की तरह चूसने लगा।

loading...

अब जिस्म की गर्मी के कारण हमने आधी रजाई हटा दी थी। फिर तब मैंने देखा कि मेरी तीनों सालियाँ आधी बंद आँखों से सब देख रही थी। अब में और जोश में आ गया था। फिर मैंने अपना एक हाथ अपनी पत्नी के बूब्स पर रखा था और अपना एक हाथ जानबूझकर अपनी छोटी साली के हाथ से टच कर रखा था, जो सबसे किनारे पर थी और फिर धीरे-धीरे में उसका हाथ दबाने लगा और साथ-साथ अपनी पत्नी के होंठ भी चूसता रहा और अपने एक हाथ से उसकी चूची दबाता रहा। फिर में उसके पैरो की तरफ अपना सिर करके लेट गया और थोड़ी देर में पत्नी की चूत को अपनी जीभ से चाटने लगा था। अब रजाई बिल्कुल ही हट चुकी थी। अब मेरी पत्नी ज़ोर-ज़ोर से मेरा लंड हिला रही थी और में पूरे जोश से उसकी चूत में अपनी जीभ घुमा रहा था। अब मेरी तीनों सालियाँ सारा नजारा देख रही थी। फिर मेरी पत्नी से बर्दाश्त नहीं हुआ तो उसने जल्दी से चोदने को कहा।

फिर मैंने झटसे उसकी चूत में अपना लंड डाल दिया और ज़ोर-ज़ोर से धक्के मारने लगा। अब चारपाई आवाज करने लगी थी, लेकिन हम दोनों इसकी परवाहा किए बगैर अपनी रफ़्तार बढ़ाते रहे। अब वो भी अपनी गांड उछाल-उछालकर मेरा लंड अपनी चूत में अंदर तक ले रही थी। अब हमारे होंठ और जीभ एक दूसरे में घुसे हुए थे और में अपने एक हाथ से उसकी चूची दबा रहा था और अपने एक हाथ से अपनी छोटी साली के हाथ को सहला रहा था। फिर लगभग आधे घंटे में हम दोनों ने अपना-अपना पानी छोड़ दिया और फिर कुछ देर तक उसी तरह पड़े रहे। फिर कुछ देर के बाद में अपने बिस्तर पर आकर सो गया। फिर सुबह जब में उठा तो छोटी साली चाय लेकर आई। अब उसके होंठो पर शरारती मुस्कान थी। फिर मैंने भी मुस्कुराकर चाय ले ली और उसे थैंक यू बोला। तो वो बोली कि क्यों? तो मैंने कहा कि रात के लिए। तो वो मुझे पागल बोलकर हंसती हुई चली गई ।।

धन्यवाद …

इस कहानी को Whatsapp और Facebook पर शेयर करें ...

Comments are closed.