✽ रोजाना नई हिन्दी सेक्स कहानियाँ ✽

loading...

रीना भाभी और अंजलि को लंड खिलाया

0
loading...

प्रेषक : विनय …

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम विनय है, में सूरत का रहने वाला हूँ और मेरी उम्र 25 साल है। अब में आपका समय ख़राब ना करते हुए सीधा अपनी स्टोरी पर आता हूँ। ये कहानी 1 साल पहले की है, मेरा सूरत में अपना खुद का बिजनेस है। एक दिन में बारिश के मौसम में शाम को करीब 8 बजे अपने ऑफिस से घर आ रहा था। अब बारिश ज्यादा होने की वजह से सभी जगह पानी भर गया था तो ऐसे में मैंने देखा कि एक औरत बस स्टॉप पर अकेली बस की राह देख रही थी। अब बारिश का पानी ज्यादा भर जाने की वजह से बस बंद थी। फिर मैंने उसकी मदद करने के लिए अपनी बाइक रोक दी और फिर मैंने उससे पूछा कि आपको कहाँ जाना है? तो उसने बताया कि उसे थोड़ी दूर तक जाना है। फिर मैंने कहा कि कोई बात नहीं में आपको ड्रॉप कर दूँगा और वो शरमाते हुए मेरे पीछे बैठ गयी। अब रास्ते में बारी-बारी बाइक के ब्रेक लगाने की वजह से उसके बूब्स मेरी पीठ पर टकराने लगे थे और मेरा लंड धीरे-धीरे टाईट होने लगा था। फिर थोड़ी देर के बाद वो जानबूझकर अपने बूब्स मेरी पीठ पर रगड़ने लगी और में पूरे जोश में आ गया।

फिर थोड़ी देर के बाद उसका घर आ गया और मैंने अपनी बाइक रोक दी। फिर उसने कहा कि आप मेरे घर एक कप कॉफी पीकर जाना, तो मैंने कहा कि ठीक है। फिर हम लोग अंदर गये, उसका मकान बहुत बड़ा और आलीशान था। फिर अंदर जाने के बाद वो सीधी बाथरूम में चेंज करने के लिए चली गयी और 5 मिनट के बाद वापस आकर मुझसे कहा कि आप भी बहुत भीग गये हो, आप भी चेंज कर लो, तब तक में कॉफी बनाती हूँ। फिर में चेंज करके वापस सोफे पर बैठ गया और वो कॉफी लेकर आई, तो कॉफी पीते वक्त मैंने देखा कि वो एक खूबसूरत और करीब 27 साल की औरत थी, उसका रंग एकदम गोरा था और उसकी साईज 37-30-38 थी, उसका नाम रीना था।

loading...

फिर उसने बताया कि उसकी शादी 2 साल पहले हुई थी और उसे अभी तक कोई बच्चा नहीं है। फिर उसने कहा कि मेरा पति पूरे महीने में सिर्फ़ 2-3 दिन ही घर आता है क्योंकि वो काम की वजह से ज़्यादातर आउट ऑफ सिटी ही रहते है और फिर वो धीरे से सरककर मेरे पास आकर बैठ गयी। फिर धीरे-धीरे उसने मेरा हाथ पकड़ लिया और सहलाने लगी। फिर उसने कहा कि आप मेरी एक मदद करोगे? तो मैंने कहा कि क्या? तो उसने कहा कि मुझे एक बच्चा चाहिए अगर तुम मुझे चोद सको तो में तुम्हारा उपकार जीवनभर नहीं भूलूंगी और उसने कहा कि मेरे पति में कुछ प्रोब्लम है, वो कुछ कर ही नहीं पाते है और जब भी सेक्स की बारी आती है, तो वो अपना पानी निकालकर ही रह जाते है, इसलिए मेरे बच्चा नहीं है, प्लीज हेल्प मी, क्या तुम मुझे वो सुख दे सकते हो? तो में तैयार हो गया। दोस्तों ये कहानी आप चोदन डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

loading...

फिर वो मुझे अपने बेडरूम में ले गयी। फिर अंदर जाते ही मैंने उसे कसकर अपनी बाँहों में भर लिया और उसके होंठो पर अपने होंठ रखकर लिप किस लेने लगा, तो वो धीरे-धीरे गर्म होने लगी। फिर मैंने उसकी नाइटी उतार दी, अब में तो उसके बूब्स देखकर दंग रह गया था। फिर मैंने झट से उसकी ब्रा उतार दी और उसकी पेंटी भी उतार दी, अब वो एकदम नंगी हो गयी थी। फिर में उसकी बॉडी को चूमने लगा, तो तभी उसका मोबाईल बजने लगा। फिर उसने फोन उठाकर बात की और वापस आ गयी और मुझसे कहा कि मेरी एक सहेली आ रही है, आपको कोई प्रोब्लम तो नहीं है ना? तो मैंने कहा कि ओके। फिर में वापस से उसको चूमने लगा। फिर उसने धीरे-धीरे मेरे सारे कपड़े उतार दिए और मेरा 7 इंच का लंड देखकर उसने कहा कि मैंने आज तक इतना बड़ा लंड नहीं देखा है और फिर वो मेरे लंड को सहलाने लगी और अपने मुँह में लेकर लॉलीपॉप की तरह चूसने लगी। फिर तभी उसकी सहेली अंजलि आ गई और फिर रीना ने उठकर अंजलि के सारे कपड़े उतार दिए और वो दोनों बारी-बारी से मेरे लंड को अपने मुँह में लेकर चूसने लगी।

फिर मैंने रीना की मस्त चूत पर अपना एक हाथ फैरना शुरू किया और अपनी एक उंगली उसकी चूत में डाल दी, उसकी चूत बहुत टाईट थी। फिर मैंने उन दोनों की चूत बारी-बारी करीब 30 मिनट तक चाटी। अब वो दोनों पूरी तरह से गर्म हो चुकी थी। फिर मैंने अपना लंड रीना की चूत पर रखकर एक ज़ोर का शॉट मारा तो मेरा आधा लंड उसकी चूत में चला गया और वो ज़ोर से चिल्लाने लगी और उसने कहा कि अपना लंड बाहर निकाल लो, मुझे बहुत दर्द होता है। फिर तब मैंने अंजलि को इशारा किया कि अंजलि तो उसने अपना मुँह रीना के मुँह पर रख दिया। फिर फिर थोड़ी देर के बाद उसको भी मज़ा आने लगा। फिर मैंने एक और ज़ोर का शॉट मारा तो मेरा 7 इंच का लंड पूरा का पूरा रीना की चूत में चला गया और वो चीखने लगी। फिर थोड़ी देर बाद वो भी अपनी गांड उठा-उठाकर मेरा साथ देने लगी। अब इस बीच वो दो बार झड़ चुकी थी। अब वो कहने लगी थी कि विनय मुझे ज़ोर ज़ोर से चोदो, फाड़ दो मेरी चूत को और मेरी चूत का भोसड़ा बना दो। अब में ज़ोर-ज़ोर से शॉट मारने लगा था, अब में झड़ने वाला था तो मैनें अपना लंड बाहर निकालकर अंजलि के मुँह में झड़ गया और अंजलि मेरा सारा पानी पी गयी और मेरे लंड को साफ कर दिया। फिर मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया और इस बार मैंने अंजलि को खूब चोदा। फिर रातभर में मैंने उन दोनों को दो-दो बार चोदा। फिर हमें जब कभी भी कोई मौका मिला तो हमने खूब चुदाई की और बहुत मजा किया ।।

धन्यवाद …

इस कहानी को Whatsapp और Facebook पर शेयर करें ...

Comments are closed.