✽ रोजाना नई हिन्दी सेक्स कहानियाँ ✽

loading...

पापा मम्मी की चुदाई को आखों में कैद किया

0
loading...

प्रेषक : शीना …

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम शीना है। में 24 साल की हूँ, में अपना कॉलेज पूरा कर चुकी हूँ। यह बात आज से करीब 5 साल पहले की है। तब में 10वीं क्लास में पढ़ती थी, तब मेरी उम्र 18 साल की थी, इस उम्र में सेक्स का क्रेज़ नया-नया होता है और मुझे भी सेक्स के बारे में जानने की उत्सुकता होने लगी थी। मेरे मम्मी पापा का बेडरूम अलग था और वो हर रोज रात को अपना रूम लॉक कर लेते थे। तो पहले मैंने कभी इस बात पर ध्यान नहीं दिया, लेकिन अब में सोचने लगी थी कि वो दोनों ऐसा क्या करते है कि दरवाजा बंद करना पड़े? उन दिनों मेरे पापा पर काम कुछ ज़्याद ही चल रहा था और वो अक्सर ऑफिस के काम से बाहर रहते थे।

फिर एक दिन जब पापा 10 दिन के बाद घर आए तो मैंने मम्मी के चेहरे पर एक अलग ही मुस्कान देखी। पापा सुबह ही आए थे और उन दिनों मेरी छुट्टियाँ चल रही थी। फिर लंच करने के बाद में अपने रूम में सोने चली गई। फिर कुछ देर के बाद मेरी आँख खुली तो मुझे कुछ आवाजें सुनाई दी तो में चुपचाप दबे पैर उनके रूम में झाँकने लगी। अब मेरे पापा सोफे पर बैठे थे और मेरी मम्मी उनकी गोदी में बैठी थी। अब पापा मम्मी के बूब्स पकड़कर दबा रहे थे, तो तब मुझे लगा कि वो ऐसे ही उन्हें छेड़ रहे है। फिर जब मैंने ध्यान से देखा तो पाया कि मम्मी ने अपनी सलवार खोल रखी है और पापा की गोदी में ऊपर नीचे हो रही है और पापा भी नीचे से उछल रहे है। अब मुझे उस वक़्त कुछ पता नहीं था कि यह क्या हो रहा है? इसलिए में उसी वक़्त उनके पास चली गई। तो मुझे देखते ही वो दोनों हड़बड़ा गये, लेकिन मेरी मम्मी पापा की गोदी में से नहीं उठी, उन्हें पता था कि अगर वो उठी, तो पापा का लंड मुझे दिख जाएगा और मुझे पता चल जाएगा कि क्या हो रहा था?

फिर मैंने मम्मी से पूछा कि आप लोग क्या कर रहे हो? तो तब उन्होंने कहा कि कुछ नहीं, हम खेल रहे है। तो तब मैंने कहा कि क्या खेल रहे है? तो उन्होंने कहा कि कुछ नहीं, तुम अपने रूम में जाओ, लेकिन में वहीं खड़ी रही। फिर तभी इतने में एक चूहा सोफे के पास आ गया, तो मम्मी उछल पड़ी और सोफे पर बैठ गई। तो मुझे पापा का लंड साफ-साफ दिखने लगा। अब में तो बस देखती ही रह गई थी, मैंने ऐसी चीज पहली बार देखी थी। फिर मेरे पापा ने जल्दी से उसे अपनी पेंट में डाल लिया और अपनी चैन बंद करने लगे, लेकिन जल्दबाज़ी में उनका लंड चैन में फंस गया था और वो चीख पड़े थे। फिर में पापा के पास गई और पापा से कहा कि क्या हुआ? तो उन्होंने कहा कि कुछ नहीं, में अपने पापा से बहुत प्यार करती हूँ इसलिए मैंने पापा का लंड पकड़ लिया और उस पर फूँक मारने लगी थी और पापा से पूछा कि ज़्यादा दर्द हो रहा है क्या? अब मम्मी पापा मेरी इस हरकत पर हँसने लगे थे और कहा कि तुम अपने रूम में जाओ तो में अपने रूम में चली गई।

loading...

फिर उस दिन रात को में पापा के लंड के बारे में ही सोचती रही और सपने में भी पापा का लंड ही दिखा। फिर सुबह उठकर में अपने स्कूल चली गई और अपनी फ्रेंड नेहा से सब बात कही। नेहा मुझसे 1 साल बड़ी थी और 1 साल फैल भी हो चुकी थी। अब वो मुझसे उम्र में बड़ी होने के कारण मुझसे ज़्यादा सेक्स के बारे में जानती थी और वो थोड़ी बिगड़ी हुई लड़की भी थी और काफ़ी लड़को को अपने चक्कर में फंसाए हुई थी। फिर जब मैंने उसको अपने पापा के लंड के बारे में बताया। तो वो बहुत उत्तेजित हो गई और मुझसे पूछने लगी कि कितना लंबा था? कितना मोटा था? किस रंग का था? तो तब मैंने कहा कि तुझे इससे क्या करना है? तू मुझे बताना कि मम्मी पापा क्या कर रहे थे?

फिर उसने मुझको बताया कि वो सेक्स कर रहे थे और तेरे पापा ने अपना लंड तेरी मम्मी की चूत में डाल रखा था। तो तब मुझे यह सब सुनकर बड़ा आश्चर्य हुआ, लेकिन साथ-साथ एक अजीब सा मज़ा भी आया था। फिर उसने बताया कि कैसे चूत में लंड डालकर चोदते है? और इन सबमें कितना मज़ा आता है? फिर उसने बताया कि उसने तो बहुत लंड लिए है तभी तो वो फैल हो गई थी, वो कोचिंग पढ़ने के लिए जाती थी, लेकिन उसके सर उसको खूब चोदते थे और कहते थे वो उसे पास करवा देंगे, लेकिन उन्होंने उसको धोखा दे दिया और फिर नेहा को चुदवाने की आदत पड़ गई, तो वो लड़कों से और अपने चाचा से चुदवाने लगी थी। अब यह सब सुनकर मुझे बहुत अच्छा लगा था और अब में अपने मम्मी पापा को नंगे चुदाई करते हुए देखना चाहती थी इसलिए अब में बस रात का इंतजार करने लगी थी। दोस्तों ये कहानी आप चोदन डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

फिर में घर जाकर सो गई, क्योंकि मुझे रात को जागना था। फिर रात को खाना खाने के बाद मैंने मम्मी पापा को गुड नाईट बोला और अपने रूम में चली गई और सोचने लगी कि ऐसा क्या करूँ कि में मम्मी पापा को सेक्स करते देख सकूँ? मेरे मम्मी पापा डिनर के बाद टहलने पर जाते है। फिर जब वो वॉक पर गये, तो मैंने उनके रूम की कुण्डी तोड़ डाली और अपने रूम में जाकर बैठ गई थी। फिर जब मेरे मम्मी पापा वापस आए और अपने रूम का लॉक लगाने लगे तो उन्होंने लॉक टूटा हुआ पाया। फिर तब मम्मी ने कहा कि अब क्या करें? तो तब पापा ने कहा कि कोई बात नहीं दरवाजा बिना लॉक लगाए  बंद कर दो, शीना तो सो गई है। अब उन्हें लगा था कि में सो गई हूँ, लेकिन में तो उनकी चुदाई के सपने देख रही थी। फिर थोड़ी देर इंतजार करने के बाद में उनके रूम में झाँकने लगी तो मैंने देखा कि पापा बिल्कुल नंगे थे और मम्मी ने चड्डी पहन रखी थी। अब पापा मम्मी के बूब्स चूस रहे थे और मम्मी पापा के बालों में अपना हाथ फैर रही थी। फिर पापा ने मम्मी से कहा कि मेरा लंड तेरा इंतजार कर रहा है मेरी बिपाशा।

फिर तब मेरी मम्मी ने कहा कि में तो कब से तरस रही हूँ मेरे जॉन? और फिर पापा ने अपना लंड मेरी मम्मी के मुँह में डाल दिया और मेरी मम्मी पापा का लंड को चूसने लगी, जैसे आइसक्रीम खाते है। दोस्तों फिर मेरे पापा ने मेरी मम्मी को चोदा और मैंने पूरे मजे लेकर उनकी चुदाई को अपनी आखों में कैद किया ।।

धन्यवाद …

loading...
इस कहानी को Whatsapp और Facebook पर शेयर करें ...

Comments are closed.