✽ रोजाना नई हिन्दी सेक्स कहानियाँ ✽

loading...

गर्लफ्रेंड को चोदकर रिमांड लिया

0
loading...

प्रेषक : आशीष …

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम आशीष है और मेरी उम्र 20 साल है। में आज पहली बार चोदन डॉट कॉम पर अपना पहला अनुभव लिख रहा हूँ। अब में पहले अपने बारे में बता देता हूँ। में एक कंपनी में मैनेजर की पोस्ट पर हूँ। यह बात उस समय की है, जब में एक मार्केटिंग की ट्रैनिंग कर रहा था तो तब हमें कुछ टास्क दिए जाते थे, जो कि हमें कंप्लीट करना होता था। अब ऐसा ही एक टास्क मुझे मिला था, घर-घर मार्केटिंग का, जिसमें मुझे एक ऐसी लड़की मिली, जो एक एयर होस्टेस इन्स्टिट्यूट में ट्रैनिंग कर रही थी। अब वो मुझे पहली नजर में ही भा गयी थी और अब में उसे पाने के लिए बेकरार हो गया था। मेरे अंदर घमंड बहुत है और जिद इतनी कि में जो सोच लेता हूँ तो हर कीमत पर करके ही दम लेता हूँ। अब ऐसा ही मैंने सोच लिया था कि में इस लड़की को पाकर ही रहूँगा और मेरा काम यहाँ से शुरू हुआ जब में उससे मिला था, तो तब ही मैंने बहाने से उसका फोन नम्बर ले लिया था।

फिर ट्रैनिंग खत्म होते ही मैंने उसे कॉल किया। तब उसने भी मुझे पसंद कर लिया, क्योंकि मेरी पर्सनॅलिटी ही कुछ ऐसी है कि कोई भी फ़िदा हो जाता था। अब मौका देखकर मैंने भी उसे प्रपोज कर दिया था। फिर कुछ टाईम के बाद मुझे पता लगा कि उसका चरित्र अच्छा नहीं है और उसके 2 बॉयफ्रेंड भी है तो तब मुझे बहुत गुस्सा आया और मैंने सोचा कि में इसको चोदकर ही रहूँगा। फिर मैंने उससे मिलने को कहा। फिर वो ट्रैनिंग के लिए दिल्ली आई और अब में भी वही पर पहुँच गया था। फिर वहाँ जाकर जब में उससे मिला, तो वो बीच बाजार में मुझसे लिपट गयी। फिर 2 दिन के बाद में उसके रूम पर उससे मिलने गया और वहाँ मुझे अपनी प्यार बुझाने का मौका मिला। फिर जब में उसके रूम पर पहुँचा, तो वो अभी नहाकर बाहर ही निकली थी, कसम से क्या फिगर था उसका? मुर्दा भी देखकर उठ जाए, आप समझ ही सकते है की वो एयर होस्टेस बनने वाली थी।

फिर मैंने उसके बाथरूम से निकलते ही उसका हाथ पकड़कर अपनी बाँहों में भर लिया। फिर में उसकी आँखों में देखता रहा और देखते ही देखते मैंने उसके होंठो पर एक जोरदार किस कर दिया। तब उसने भी मेरा पूरा साथ दिया। अब में समझ गया था कि बात बन जाएगी, लेकिन आपको तो पता ही है कि वो मेरे सामने शर्मीली होने की कोशिश कर रही थी, लेकिन में तो सोचकर आया था कि आज तो उसका काम तमाम कर दूँगा। फिर मैंने उसकी कमर में अपना हाथ डालकर उसका टॉप ऊपर कर दिया और उसे उतारकर अलग कर दिया, उसने मॉडर्न टाईप की लेसवाली ब्रा पहनी थी। फिर मैंने उससे साईज पूछा तो तब उसने बताया कि 34D है, तो में सुनकर हैरान रह गया और उन्हें दबाने लग गया था।

loading...

अब वो मौन करने लगी थी जैसे उसके अंदर किसी ने आग लगा दी हो। अब उसकी आवाज मेरे अंदर और उत्तेजना बढ़ा रही थी। फिर मैंने अपना काम जारी रखा और उसके सेक्सी बूब्स को चूसने लगा था जैसे एक बच्चा चूसता है। अब उसकी सिसकियाँ बढ़ने लगी थी और मेरी तेज़ी भी। अब मैंने उसका लोवर भी उतार दिया था। अब वो मेरे सामने सिर्फ पेंटी में थी। अब में तो विश्वास नहीं कर पा रहा था कि एक परी मेरे सामने सिर्फ़ पेंटी में है। अब में उसके करीब आकर उसे फिर से किस करने लगा था और साथ ही उसके बूब्स भी मसल रहा था। फिर उसके बूब्स चूसते हुए मैंने अपना एक हाथ उसकी पेंटी में डाल दिया और उसने अपनी चूत शेव की हुई थी। फिर जैसी ही मैंने अपना एक हाथ अंदर डाला तो तब उसने मेरा हाथ पकड़ लिया और कहा कि आशु प्लीज ऐसा मत करो, में किसी को मुँह दिखाने के लायक नहीं रहूंगी। तब मैंने उसे समझाया कि दुनियाँ की परवाह मत करो, में तुमसे शादी करूँगा, यह मेरा वादा है, तुम मुझ पर विश्वास करो, तो फिर वो मान गयी।

अब मैंने उसकी पेंटी भी अलग कर दी थी। अब वो मेरे सामने बिल्कुल नंगी थी। फिर मैंने भी झट से अपने सारे कपड़े उतार दिए और अपना 7 इंच लम्बा लंड उसके एक हाथ में दे दिया। उसकी मोटाई कुछ ज्यादा है लगभग 4 इंच, तो वो हाथ में लेते ही डर गयी। फिर मैंने उसे बेड पर लेटाया और अपना काम करना शुरू कर दिया। फिर मैंने अपना लंड उसकी चूत पर रखा तो उसकी चूत बहुत टाईट थी। फिर मैंने धीरे-धीरे अपना लंड उसकी चूत में अंदर डालना शुरू किया। फिर वो दर्द से तड़पने लगी तो में रुक गया। तब वो कहने लगी कि आशु प्लीज ऐसा मत करो, में मर जाऊँगी। फिर मुझे उसके दूसरे बॉयफ्रेंड की याद आई और मुझे गुस्सा आ गया और फिर मैंने एक ही झटके में अपना पूरा लंड उसकी चूत में डाल दिया और उसकी चूत को तार-तार कर दिया। तब वो चिल्ला उठी और रोने लगी थी। फिर उसने कहा कि आशु यह तुमने क्या कर दिया? तुमने मुझे किसी लायक नहीं छोड़ा। दोस्तों ये कहानी आप चोदन डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

loading...

फिर मैंने उसके आँसू पोंछे और उसका दर्द कम होने तक उसे किस करता रहा। अब थोड़ी देर के बाद उसका दर्द कुछ कम हो गया था तो तब मैंने अपने लंड को अंदर बाहर करना शुरू किया। अब उसे भी मज़ा आने लगा था। फिर मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी। अब उसकी चीखे सिसकारियों में बदलने लगी थी। अब मुझमें उत्तेजना और बढ़ गई थी। फिर मुझे उसके बॉयफ्रेंड की भी याद आती रहती तो में उसे बहुत बुरी तरह से चोदने लगा। अब वो झड़ चुकी थी, लेकिन मेरा काम नहीं हुआ था और अब मैंने अपनी स्पीड और बढ़ा दी थी। वो फिर से रोने लगी और बोली कि आशु प्लीज मुझे छोड़ दो, प्लीज बस करो, प्लीज आशु, उउउ, प्लीज। अब मेरा गुस्सा और बढ़ गया था। अब मेरा भी लंड झड़ने वाला था तो तब मैंने कहा कि बस हो गया। तब वो बोली कि प्लीज अंदर मत निकालना, प्लीज बाहर निकाल लो, मेरे पीरियड्स चल रहे है। तब मैंने सोचा कि यह बदला लेने का अच्छा मौका है और इतने में अपना सारा पानी उसकी चूत में ही निकाल दिया और बगल में लेट गया।

अब वो चुप होने का नाम ही नहीं ले रही थी। फिर मैंने उसे बताया कि मैंने ऐसा क्यों किया? फिर मैंने कुछ देर के बाद उसे फिर से चोदा और फिर वहाँ से चला गया ।।

धन्यवाद …

इस कहानी को Whatsapp और Facebook पर शेयर करें ...

Comments are closed.