✽ रोजाना नई हिन्दी सेक्स कहानियाँ ✽

loading...

चुदक्कड़ रांड को सुहागन बनाया

0
loading...

प्रेषक : आमिर …

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम आमिर है, मेरी उम्र 25 साल है। मेरे लंड का साईज 6 इंच लम्बा और 3 इंच मोटा है। में 18 साल की उम्र से करीब रोज मुठ मारता हूँ। 18 साल की उम्र में पहली बार एक रंडी को चोदा भी था। फिर कॉलेज में कुछ रंडी लड़कियों के बूब्स दबाए और 2 को चोदा भी था। में सेक्स का बहुत बड़ा दीवाना हूँ और बड़े बूब्स और गोरा बदन देखकर पागल हो जाता हूँ। ये बात पिछले साल की है, मेरी कज़िन बहन सोमी जो कि 21 साल की है, लेकिन बहुत खूबसूरत और मस्त है, मेरे यहाँ रहने आई। वो पहले भी आती रहती थी, लेकिन इस बार वो बदली सी लग रही थी। जिस्म थोड़ा भारी, लेकिन सेक्सी था, उसके बूब्स का साईज 34 है। फिर जब वो आई तो बारिश हो रही थी। अब अंदर आते-आते वो कुछ पानी से भीग गई थी और उसकी कमीज से उसकी ब्रा साफ दिखने लगी थी। फिर जब मैंने उसका गीला बदन देखा तो मेरा दिल किया कि उसको यही पर पकड़कर उसकी जवानी निचोड़ लूँ, लेकिन मैंने अपने आप पर कंट्रोल किया। उसका और मेरा कमरा ऊपर था।

अब में रात को उसके बारे में सोचकर मुठ मार रहा था और सपनों में अपने लंड से उसे कुत्ती की तरह चोद रहा था। अब उसका सेक्सी बदन मेरी नजरों के सामने से हट ही नहीं रहा था। फिर तभी अचानक से मेरी आँख खुली, तो वो पेप्सी लिए मेरे सामने खड़ी थी, शायद वो मुझे देने आई थी। लेकिन अब उसे मेरे हाथ में लंड देखकर पता चल गया था कि मुझे उससे क्या चाहिए था? तो तब वो गुस्सा हुई और बोली कि तुम ऐसे हो, मैंने सोचा भी नहीं था, तो तभी मैंने सोचा कि आज आर या पार हो जाए और फिर मैंने कहा कि तुम इतनी चिकनी हो कि कोई भी फिसल जाए, कुसूर मेरा नहीं तुम्हारी जवानी का है। फिर तब उसने कहा कि तुम बहुत भड़वे हो। अब उसके मुँह से गाली सुनकर में हिल गया था, लेकिन मुझे पता चल गया था कि वो भी किसी रंडी से कम नहीं थी। फिर मैंने उसका एक हाथ पकड़कर उसे बिस्तर पर खींच लिया और उसे ज़ोर का फ्रेंच किस किया। अब में उसको पागलों की तरह चूमने लगा था गर्दन पर, होंठो पर, गालों पर और उसकी कमीज का बटन खोलकर उसके सीने पर भी और हर जगह अपना हाथ फैरने लगा था और उसको चाटने लगा था। अब वो भी आउट ऑफ कंट्रोल होने लगी थी और मेरी बाँहों में पिघलने लगी थी, ऊफ कितनी गर्म थी वो? फिर उसने मेरे कान में कहा कि मुझे आज रंडी की तरह चोदो जानू, में यहाँ इसलिए आई हूँ, लूट लो मेरी इज़्जत और मुझे अपनी बीवी समझो।

अब में खुशी से पागल हो गया था और उससे कहा कि तुम्हें बुरा तो नहीं लगेगा अगर में तुम्हें गाली दूँ। तो तब वो गुस्से से बोली कि मादरचोद जब मेरे नाम की मूठ मार रहा था, तो तब मुझे बुरा लगा क्या? तो तब मैंने कहा कि अच्छा, आजा तुझको मज़ा करवाऊँ, बहनचोद तेरे गीले बाल और बदन देखते ही में पागल हो गया था। फिर तभी वो बोली कि अरे मेरे कुत्ते में भी तो गर्म हो गई थी तुझे मुठ मारता देखकर, अब आजा मेरी गर्मी निकाल दे। बस फिर क्या था? मैंने उसकी कमीज उतारी और उसको बिस्तर पर लेटाकर उसके ऊपर आकर उसके बदन को चाटने लगा था। वो ब्लेक ब्रा में बहुत मस्त और चिकनी लग रही थी। अब में उसकी ब्रा में अपनी जीभ डालने लगा था और उसकी कमर चाटी, उसकी बगल का पसीना भी पिया और उसकी पतली गर्दन चुम्मी। अब वो तो पागल हो गई थी और कहने लगी कि बहन के लंड जल्दी से चोद देना, इतना तंग मतकर। फिर तब मैंने कहा कि तेरी माँ की चूत, तुझको रंडी बना रहा हूँ, रुक जा भोसड़ी की, तेरी चूत की माँ चोदूंगा जानेमन।

फिर में फ्रिज में से थोड़ा सा मक्खन ले आया और उसके सीने और पेट पर लगा दिया और फिर चाटने लगा। फिर तब उसने कहा कि मुझको बहुत मज़ा आ रहा है, ऐसे ही करता जा तू भड़वे, तुझको सब पता है कि कैसे लड़की की चूत का पानी निकालना है? तो तब मैंने कहा कि बहनचोद तूने मुझे इतना गर्म जो कर दिया है, अब बर्दाश्त कर मेरी रंडी, मैंने उसकी ब्रा अभी तक नहीं उतारी थी। फिर वो अपने बूब्स मसलती रही और फिर अपनी ब्रा फाड़कर निकाल दी और अपने बूब्स को पकड़कर बोली कि ले इन्हें भी चूस ना हरामी। फिर मैंने कहा कि अच्छा मेरी जान और फिर में उसके बूब्स चूसने लगा और वहाँ भी मक्खन लगाकर खूब सारा प्यार किया और अपना दूसरा हाथ उसकी सलवार में अंदर डालकर चूत पर चला रहा था। अब उसकी चूत गीली हो चुकी थी।

loading...

फिर मैंने 15 मिनट तक उसको किसिंग की और उसके बूब्स के खूब मज़े लिए। फिर मैंने अपनी शॉर्ट्स और उसकी सलवार उतार दी और फिर मैंने 69 की पोज़िशन में आकर अपना लंड उसके मुँह में दे दिया और में उसकी पेंटी साईड में करके उसकी चूत चाटने लगा। वो भी साली एक्सपर्ट निकली थी, अब उसने भी मेरा लंड पूरा अपना मुँह में ले लिया था और अपने थूक से खूब गीला करके चाटने लगी थी और मेरे अंडे भी चाट रही थी। अब इधर में भी उसकी चूत में अपनी 2 उंगलियाँ डालकर उसके दाने को कुत्ते की तरह चाट रहा था। उसकी चूत बहुत बह रही थी, उसकी चूत में से जवानी का रस निकल रहा था, जो में पी रहा था। अब वो बहुत मस्त हो रही थी। फिर उसने अपने गले की सेक्सी गोल्ड चैन को मेरे लंड के इर्द गिर्द लपेटा और अपने मुँह में लेकर चूसने लगी थी। अब में तो पागल हो गया था, तो तभी मुझे ऐसा लगा कि अब मेरा पानी निकल जाएगा, लेकिन उसे पता था, अब उसने मेरे लंड के टोपे को दबा दिया था और फिर 1 मिनट के बाद चूसना स्टार्ट कर दिया। अब इस दौरन वो एक बार झड़ चुकी थी। अब में उसका सारा माल पी गया था। दोस्तों ये कहानी आप चोदन डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

फिर मैंने कहा कि मुझे तेरे मुँह में अपना माल निकालना है। तो वो बहुत खुश हुई और अपनी लंड चुसाई तेज कर दी थी। फिर तभी 2 मिनट के बाद ही मेरा पूरा पानी उसके मुँह में ही निकल गया और वो मेरा पूरा पानी पी गई थी। फिर हम दोनों ने किसिंग की और एक दूसरे को अपने अपने मुँह का माल खिलाया। फिर हमने एक दूसरे के मुँह पर थूक थूककर सारा माल चाटा और फिर ऐसे ही उसके बूब्स और पेट पर थूककर चाटा, क्या मलाई जैसा जिस्म था उस रंडी का? फिर मैंने कहा कि सोमी यार तू इतने दिन से कहाँ थी? ये जवानी कहाँ छुपाई थी? तो तब वो बोली कि तेरे लिए निखार रही थी बहनचोद, ताकि तू देखे तो मेरी जवानी के पीछे पागल कुत्ता बन जाए। फिर हम गंदी बातें करते रहे और मस्त चटाई, चुसाई करते रहे।

अब में उसकी चूत में अपनी एक उंगली चला रहा था और वो मेरे लंड की मुठ मार रही थी। फिर 20 मिनट के बाद मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया। फिर उसने मेरे लंड पर थूककर उसको खूब चूसा और फिर खुद ही कुत्तिया की तरह झुककर उसे अपनी चूत पर रगड़ने लगी थी। तब मुझसे भी रहा नहीं गया और उसकी चूत में अपनी जीभ डालकर उसकी चूत को चाटने लगा था। अब में मेरी नाक उसकी गांड के छेद पर रगड़ रहा था और उसकी चूत को चाट रहा था और फिर अपना लंड अंदर करने लगा और 2-3 झटकों में ही मेरा लंड अंदर कर दिया, क्योंकि उसकी चूत और मेरा लंड दोनों ही चिकने हो गये थे। फिर मैंने उसके ऊपर झुककर उसके दोनों बूब्स पकड़े और उसकी चुदाई शुरू कर दी थी। अब पहले तो मैंने उसकी गर्दन के किस लेते हुए हल्के-हल्के झटके दिए थे। अब वो नशे में डूबने लगी थी और मेरा लंड लिए हुए सीधी हुई और मुझे खूब ज़ोर का फ्रेंच किस दिया और फिर वापस से झुकी और अपने चूतड़ हिला-हिलाकर झटके लगाने लगी थी। फिर तभी मैंने भी उसके चूतड़ पर एक थप्पड़ मारा और उसके बाल पकड़ लिए और फिर उसकी ज़ोरदार चुदाई शुरू कर दी।

अब वो खुशी से कहने लगी थी और कर साले, चोद भड़वे, चोद, चोद मेरी चूत, लूट ले मेरी जवानी, मेरा बदन निचोड़ ले, जानू मुझे अपनी रखैल बना ले, अपनी बीवी बना ले, अपनी रंडी बना ले, आआहहह। अब में भी उसको जोर-जोर से चोदे जा रहा था और कहता जा रहा था आहहह ले रंडी और अंदर ले, ये ले मेरा लंड, बहनचोद हराम की औलाद, तू सच में बहुत बड़ी रंडी है रे, कितना मज़ा देती है? आहहह साली तुझको रोज चोदूंगा, तुझे मेरे बच्चे की माँ बनाऊंगा, आहह, ये ले तेरी माँ की चूत, तेरा बदन कितना मस्त है? तेरी चूत, गांड, बूब्स सब चिकने है, बहन की लोदी तू एकदम मलाई है रे, मेरी रंडी। फिर हम दोनों 15 मिनट तक ज़ोरदार झटके लेते देते रहे। अब वो अपने चूतड़ हिला-हिलाकर मेरा पूरा साथ दे रही थी। अब उसके हिलते बूब्स सामने से देखकर में और पागल हो रहा था तो मैंने उसके दोनों आम जोर से पकड़कर दबाए।

फिर उसने कहा कि बाहर निकाल ले और फिर वो पलट गई और मेरे लंड को अपने मुँह में लेकर चूसने लगी और अपने दातों से दबाने लगी थी। तभी में बहुत ज़ोर से झड़ गया आहहहह, बहनचोद, मादरचोद, तेरी माँ की चूत, हरामी, रंडी, हाईईई, ले, आहहह। अब वो मेरा सारा रस पी गई थी। फिर उसने अपने बूब्स पर वो माल थूककर मेरे बाल पकड़कर मुझसे वो सब चटवाया और फिर किस करके सब खिलाया, ऊफ। फिर मैंने कहा कि तू कितनी गंदी है? तो तब वो बोली कि सेक्स का मज़ा इसी में है जानू। फिर मैंने कहा कि अच्छा रंडी मेरा पेशाब पियेगी? तो तब उसने थोड़ा सोचा और फिर कहा कि भोसड़ी के तेरा माल पी गई तो पेशाब क्या चीज है? आजा बाथरूम में।

फिर हम दोनों शॉवर के नीचे गये और फिर गर्म पानी खोलकर उसके नीचे एक दूसरे के गीले जिस्म की खूब चुसाई की। फिर मैंने उसका हर अंग चाटा और फिर उस पर पेशाब किया। तो उसने मेरा पेशाब थोड़ा अपने मुँह में लिया और बाकि अपने बूब्स पर करवाया। अब उसका पूरा बदन पेशाब मेरे पेशाब से भर गया था। फिर में बाथरूम में ही नीचे लेट गया और फिर उसने अपनी चूत मेरे मुँह पर रखकर मूतना शुरू किया तो में भी उसका पूरा पेशाब पी गया और उसके बूब्स दबाता रहा। अब इन सब में 2 घंटे गुजर गये थे। अब हम दोनों को बहुत मज़ा आया था। फिर जाने से पहले आखरी रात उसने कहा कि अगर में तुम्हारे लायक़ हूँ तो मुझसे शादी करोंगे? तो में बहुत खुश हुआ और सोमी को गले लगा लिया और उसको किस करके कहा कि हाँ जानू जरुर। फिर मैंने घर में बात की और 1 साल के बाद पिछले महीने हमारी शादी हो गई। अब में उसकी बहुत इज़्जत करता हूँ, लेकिन हम दोनों जानते है कि सेक्स का मज़ा बदतमीज़ी में है तो हम बिस्तर में, बाथरूम में, अकेले में जानवरो की तरह चुदाई करते है और बहुत प्यार करते है, हम बाहर वालों के लिए बहुत सीधे और शरीफ है ।।

धन्यवाद …

loading...
इस कहानी को Whatsapp और Facebook पर शेयर करें ...

Comments are closed.