✽ रोजाना नई हिन्दी सेक्स कहानियाँ ✽

loading...

बुआ की चुदाई हॉस्पिटल में

0
loading...

प्रेषक : सन्नी …

हैल्लो दोस्तों, यह मेरी इस साईट पर पहली स्टोरी है, मेरा नाम सन्नी है और में दिल्ली से हूँ। मुझे आंटी और शादीशुदा औरतें बहुत पसंद है। अब में आपका समय ख़राब ना करते हुए सीधा स्टोरी पर आता हूँ। ये कहानी मेरी बुआ के बारे में है, उनकी उम्र 46 साल है, वो दिखने में ज़्यादा सुंदर तो नहीं है, लेकिन उनके बूब्स और गांड बहुत बड़े है, उनका साईज़ 36-34-38 है, वो हॉस्पिटल में नर्स है। मुझे बचपन से ही वो बहुत पसंद है, जब भी वो हमारे घर रहने आती थी तो में उनके साथ ही सोता था, फिर रात में नींद का फायदा उठाकर में उनके बूब्स पर हाथ रखता था, ऐसे ही सब चल रहा था। अब में कॉलेज में आ चुका था, इस जनवरी में मेरे ताऊ को हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया, उन्हें हार्ट अटेक हुआ था। दोस्तों ये कहानी आप चोदन डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

फिर ताऊ का ध्यान रखने के लिए मुझे रात को हॉस्पिटल में रुकना था, बुआ की भी उस दिन नाईट शिफ्ट थी तो हम दोनों रात को उस दिन वहाँ थे। फिर सारे काम निपटाने के बाद बुआ और में उनके स्टाफ रूम में थे, फिर हमने वहाँ डिनर किया, फिर इधर उधर की बातें कर रहे थे। मेरा ध्यान तो बुआ के बड़े-बड़े बूब्स से हट ही नहीं रहा था। बुआ ने भी शायद मुझे नोटिस किया। रात के 12 बज चुके थे और हॉस्पिटल भी बिल्कुल शांत था, फिर तभी बुआ ने मुझसे कहा कि..

बुआ : सन्नी चलो सोते है, इस रूम में एक सिंगल बेड है आज रात हमें उसी पर ही एड्जस्ट करना पड़ेगा।

में : (अंदर से बहुत खुश होते हुए) ठीक है बुआ।

फिर बुआ ने अपना एप्रिन निकाल दिया, अब वो सलवार कमीज़ में थी, जिसमें से उनके बूब्स बहुत सुंदर लग रहे थे। फिर हम सोने लगे, बुआ दीवार की साईड थी और में दूसरी साईड था, फिर करीब आधे घंटे बाद जब मुझे लगा कि बुआ गहरी नींद में सो चुकी है तो मैंने उनके बूब्स पर अपना हाथ लगाया, उनके इतने पास सोने की वजह से हम काफ़ी पास पास थे। फिर मैंने धीरे-धीरे हिम्मत करके उनकी कमीज़ ऊपर उठाई और कमर तक कर दी। फिर मैंने उनके पेट पर हाथ रखा तो वो बहुत मुलायम था। फिर मैंने धीरे-धीरे हाथ उनकी ब्रा तक पहुँचाया, में अपने आप पर कंट्रोल नहीं कर पा रहा था। फिर मैंने उनके बूब्स तेज़ दबा दिए तो एकदम से उनकी नींद खुल गई, वो मुझ पर चिल्ला पड़ी।

बुआ : सन्नी ये सब क्या है?

में : सॉरी बुआ, आप मेरे इतने पास थे तो में खुद पर कंट्रोल नहीं कर पाया।

बुआ : तुम्हें शर्म आनी चाहिए, तुमने ऐसा सोचा भी कैसे?

में : बुआ मुझे आप बहुत पसंद हो और आपके इतने पास आकर में अपना कंट्रोल खो बैठा।

बुआ : तुम्हें मुझमें ऐसा क्या अच्छा लगा?

में : बुआ सच कहूँ तो मुझे आपके बूब्स बहुत पसंद है। (मुझे खुद भी नहीं पता, मैंने ऐसे कैसे ये बात बोल दी)

बुआ : लेकिन, फिर भी ये सब ग़लत है।

में : कुछ ग़लत नहीं है बुआ, सब को प्यार पाने का हक है।

loading...

ये कहकर मैंने उन्हे हग कर लिया और उनकी पीठ सहलाने लगा तो उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया। ये देखकर मैंने उनकी तरफ देखा तो उनकी आँखे बंद थी। फिर मैंने उनके होंठो पर अपने होंठ रख दिए, तो अब वो भी मुझे किस करने लगी। करीब 10 मिनट तक हम एक दूसरे को किस करते रहे। में उनके बूब्स भी दबाए जा रहा था। फिर में उनकी गर्दन को किस करने लगा, वो भी मदहोश होती जा रही थी, फिर मैंने उन्हें बेड पर लेटा दिया और उनकी कमीज़ उतार दी और उनके बूब्स के बीच में अपना मुँह डाल दिया, क्या सॉफ्ट बूब्स थे उनके? फिर मैंने उनकी ब्रा खोल दी और उनके निप्पल चूसता रहा, क्या निप्पल थे उनके? ब्राउन कलर के और निप्पल 2 इंच का तो होगा। अब वो भी मेरा सिर पकड़ कर अन्दर दबा रही थी और आआआआआआहह कर रही थी। वो कह रही थी कि खा जा इन्हें सन्नी, आज तू मेरी प्यास बुझा दे। फिर मैंने उनकी सलवार और पेंटी एक साथ उतार दी और उनकी चूत पर हाथ फेरने लगा तो वो मचले जा रही थी। उनकी चूत पर एक भी बाल नहीं था। फिर में उनकी चूत चाटने लगा, क्या चूत थी उनकी? में तो बस उन्हे अंदर तक चाटता रहा। फिर में उठा और अपने सारे कपड़े उतार दिए। अब बुआ मुझसे लिपट गई, वो कह रही थी तुने आज मेरी ख्वाइश पूरी कर दी सन्नी, में ज़िंदगी में एक बार ऐसे चिकने और स्ट्रॉंग आदमी से चुदना चाहती थी, आज मेरी ये ख्वाइश पूरी कर दे।

में : बुआ अब तो आपको रोज इस लंड का स्वाद मिलेगा, में आपको खूब मज़े दूँगा, आपको अपनी रंडी बना दूँगा।

ये कहकर मैंने अपना लंड उनके मुँह में दे दिया, वो भी उसे पागलों की तरह चूसने लगी, बुआ सच में बहुत अच्छा लंड चूसती थी। अब मैंने उन्हें सीधा लेटा दिया, फिर उनकी टाँगे अपने कंधे पर रखी और एक झटके में अपना पूरा लंड उनकी चूत में डाल दिया तो वो चिल्ला पड़ी, लेकिन उन्होंने अपना मुँह खुद बंद कर लिया। अब में तेज़ तेज़ झटके मारने लगा, वो भी आआआअहह उूउऊहहह्ह्ह्ह और चोद मुझे, आज मेरी खुजली मिटा दे। फिर करीब 20 मिनट तक उन्हें चोदने के बाद में झड़ गया, वो भी अब तक 2 बार झड़ चुकी थी। फिर में उनके साथ लेट गया। वो काफ़ी खुश थी, उन्होंने मुझे हग कर लिया इसके बाद वो उल्टी हो कर लेट गई। में उनकी पीठ पर हाथ फेरे जा रहा था और आगे हाथ डालकर उनके बूब्स दबा रहा था और अपना लंड उनकी गांड में रगड़ रहा था, तो बुआ बोली।

बुआ : अब क्या इरादा है सन्नी तेरा?

में : में सोच रहा हूँ कि आपकी गांड तो वर्जिन है ना?

फिर वो एकदम से मेरी तरफ़ पलट गई और बोली।

बुआ : नहीं सन्नी, बहुत दर्द होगा।

में : वही तो देखना है कैसा लगता होगा जब आप पहली बार चुदे होंगे।

अब में उनके ऊपर आ गया और उनके होंठो को चूसने लगा। वो भी गर्म होती जा रही थी। फिर मैंने उन्हें उल्टा लेटा दिया और उनके ऊपर आ गया और उनकी गांड पर लंड मसलने लगा।

loading...

बुआ : आआअहह, सन्नी आराम से करो प्लीज, ये मेरी गांड है, में सुबह चल नहीं पाऊँगी।

फिर मैंने कुछ नहीं सुना और उनकी गांड में लंड घुसा दिया, वो चिल्ला पड़ी आआआआआआअहह बाहर निकाल बहुत दर्द हो रहा है, मारेगा क्या? अब में उनके ऊपर लेट गया और उनकी गर्दन पर किस करने लगा, अब वो शांत हो गई। फिर मैंने उनकी गांड की चुदाई शुरू की और आधे घंटे तक चोदा, अब में थककर उनके ऊपर ही लेट गया। फिर हम ऐसे ही सो गये ।।

धन्यवाद …

इस कहानी को Whatsapp और Facebook पर शेयर करें ...

Comments are closed.