✽ रोजाना नई हिन्दी सेक्स कहानियाँ ✽

loading...

बीवी ने नौकरानी को पति से चुदवाया

0
loading...

प्रेषक : आरजू …

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम आरज़ू है और में आप लोगों के लिए आज फिर से एक स्टोरी भेज रही हूँ, जो मुझे मेरे एक फैन ने भेजी है और उनकी उम्र 44 साल है। इस कहानी में वो अपनी बीवी की मदद से नौकरानी को चोदता है और उनका कहना है कि उनकी कहानी में बहुत अच्छी तरह से पेश कर सकती हूँ। दोस्तों ये कहानी अजय नाम के आदमी की है, जो अपनी बीवी और 2 बच्चों के साथ बहुत अच्छे से जिंदगी जी रहा था, लेकिन वो बहुत बड़ा चुदक्कड़ था, वो अपनी बीवी को रातभर में 3-4 बार चोदता था, हांलाकि उसके बच्चे जवान लड़की 15 साल और लड़का 17 साल का हो चुका था और वो रंडीबाजी भी बहुत करता था, जिसके लिए उसकी बीवी बहुत मना करती थी कि बाहर सेक्स करने से एड्स हो सकता है और हम सबकी लाईफ खराब हो सकती है। फिर ये बात अजय के भी समझ में आ गयी, लेकिन उसने एक शर्त रख दी कि घर में ही किसी चूत का जुगाड़ करवाओ तो रंडियों के पास नहीं जाऊंगा।

फिर हार मानकर उसकी बीवी यानि कि रीमा को घर की नौकरानी को उसके लंड से चुदवाने की हामी भरनी पड़ी, लेकिन सवाल ये था कि शांति (नौकरानी) भला क्यों अजय से चुदवाएगी? लेकिन अब रीमा ने वादा कर लिया था तो उसे चूत तो हाजिर करनी थी और वक़्त भी नहीं था, उस कमीने ने रीमा को 2 दिन का वक़्त दिया था, वरना उसने बोल दिया था कि घर में ही तेरे सामने ही रंडी लाकर चोदूंगा। फिर रीमा ने शांति को 1000 रूपये का ऑफर दिया, जिसे उसने तुरंत मान लिया, लेकिन काम उससे भी कम में भी हो सकता था, लेकिन रीमा को इस काम में कोई तजुर्बा नहीं था। खैर फिर दूसरे दिन रात को शांति सजधज कर घर आ गयी। अजय के बच्चे हॉस्टल में ही पढ़ते थे, उसके घर पर सिर्फ पति पत्नी ही रहते थे।

फिर शांति के आने के बाद रीमा ने अपने पति को कंडोम का पैकेट दिया और रूम के बाहर जाने लगी।  तो अजय ने उसको पकड़कर अपने पास खींच लिया और बोला कि हाए मेरी जान तू कहाँ जाती है? आज अपने पति को किसी और की चूत चोदते हुए तो देख ले। फिर रीमा बोली कि हटिए जी मुझे शर्म आएगी और अब शांति का तो हाल ही बुरा हुआ जा रहा था, वो सीधी सादी अपने पति से टांगे उठाकर चुदवाने वाली औरत थी, उसने शायद ही इससे पहले लंड और चूत की बातें इतनी खुल्लम खुल्ला सुनी हो। फिर अजय ने कहा कि अब तुम लोग नखरे करना बंद करो और फटाफट कपड़े उतारो।

अब कुछ ही देर में शांति और रीमा दोनों नंगी थी, शांति तो ब्रा और पेंटी भी नहीं पहनती थी और उसकी चूत पर झाँटे भी बहुत बड़ी-बड़ी थी। फिर तभी अजय बोला कि रीमा यार ये शांति ने तो पूरा जंगल उगा रखा है और तुम्हें पता है ना मुझे झाँटे अच्छी नहीं लगती है, अब इसकी झाँटे साफ करने में टाईम लगेगा। फिर रीमा बोली कि जान आज ऐसे ही चोद लो ना, कल ये बनाकर आएगी, क्यों शांति? तो शांति ने कहा कि बीबी जी मुझे भला इनको साफ करने का वक़्त कहाँ मिल पाता है? और फिर मेरा घर भी तो छोटा सा है, में शाम को जब घर जाती हूँ तो बच्चे रहते है और रात को पति होता है, फिर भला वक़्त कहाँ मिल पाता है? तो रीमा बोली कि क्यों तेरा पति खाली टाँग उठाकर चोदना जानता है? उसी से अपनी झाँटे बनवाया कर और फिर वो अपनी भी तो साफ करता ही होगा ना? तो शांति बोली कि हाँ लेकिन मुझे शर्म आती है, में तो आज पहली बार पूरे कपड़े उतारकर नंगी हुई हूँ, इससे पहले मेरा पति खाली साड़ी उठाकर अपना हथियार डाल देता था और मेरा ब्लाउज भी नहीं उतारता था और सिर्फ़ ऊपर से ही बूब्स दबा देता था, में आज पहली बार औरत और मर्द का ये रूप भी देख रही हूँ।

loading...

फिर रीमा बोली कि शादीशुदा लाईफ का मज़ा जमकर चुदवाने में है और जितना ज़्यादा खुले होकर हम चुदवाते वक़्त बात करते है, सेक्स का मज़ा उतना ही बढ़ जाता है। खैर में तो अब अधेड़ हो चुकी हूँ, लेकिन इनको अभी तक जवानी आ रही है। फिर शांति बोली कि बीबी जी मर्द कभी बूढ़ा नहीं होता, तो अजय बोला कि अब तुम दोनों बातें ही करती रहोगी तो मेरा ये ऐसे ही हिला-हिलाकर झड़ जाएगा। फिर हम दोनों ने देखा तो अजय अपना 8 इंच का लंड अपने हाथ में लिए हिला रहा था। अब मेरे लिए तो यह कोई नयी बात नहीं थी, लेकिन शांति ये सब देखकर हैरान रह गयी थी और बोली कि मालकिन ये इतना बड़ा भी होता है क्या?  तो रीमा बोली कि अब पहले तू जल्दी से चुदवा ले और उसके बाद तुझे सब बता दूँगी, चल पहले इनका मुँह में डालकर चूस। दोस्तों ये कहानी आप चोदन डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

loading...

फिर शांति घबराते हुए अजय का लंड चूसने लगी और में उसकी बड़ी-बड़ी चूचीयाँ दबा रही थी, उसके बूब्स मुझसे ज़्यादा टाईट थे और में पहली बार किसी औरत के बूब्स दबा रही थी, तो मुझे भी अच्छा लगने लगा था। अब शांति कुछ ही देर में बुरी तरह से मचलने लगी थी। फिर तब मैंने उसको बेड पर लेटा दिया और फिर कुछ देर तक उसकी चूत सहलाने के बाद अजय से बोली कि लो जी मैनें अपना वादा पूरा कर दिया, डाल लो अपना लंड इसकी चूत में, लेकिन कंडोम जरूर पहन लेना। फिर तभी अजय बोला कि अरे यार अब इसके साथ मुझे एड्स थोड़ी हो जाएगा, ये कोई रंडी होती तो बात और थी, रहने दोना प्लीज, कंडोम लगाने से मज़ा नहीं आता है। फिर रीमा बोली कि और अगर कहीं पेट से हो गयी तो? तो अजय बोला कि नहीं में बाहर गिरा दूँगा और फिर मैंने शांति की चूत अपने हाथ से फैला दी, तो जिस पर अजय अपना लंड रगड़ने लगा और फिर कुछ देर के बाद उसने अपना पूरा लंड उसकी चूत में डाल ही दिया, तो शांति आईईईईईईईईई माँ, आआईईईईईईई बीवी जी, बहुत दर्द कर रहा है, आआहह, हाए राम, उूउउफफफफफफफफफफफ्फ, भगवान के लिए निकाल लो, आआहह। फिर रीमा बोली कि थोड़ा सा सहन करो फिर देखो कितना मज़ा आता है? तो शांति बोली कि आआअहह बीवी जी ऊऊफफफबहुत दर्द हो रहा है, आईईईईईई अपने 1000 रूपये वापस ले लो, आअहह निकालो, आआ। फिर तभी अजय रीमा से बोला कि मज़ा आ गया, क्या मस्त माल है? बड़ा टाईट जा रहा है, इसके लिए तो में 5000 रूपये भी खर्च कर सकता हूँ और फिर अजय ने अपने धक्कों की स्पीड और बढ़ा दी। अब शांति की चीखों की आवाज़ भी बढ़ती जा रही थी। अब मुझे उस पर तरस आ गया था तो मैंने अजय को पीछे की तरफ धक्का दे दिया और उससे बोली कि अजय रुको यार इसको तकलीफ हो रही है, तुम मुझे चोद लो।

फिर तभी अजय बोला कि बहन की लोड़ी तुझे चोदने में जरा भी मज़ा आता तो में बाहर क्यों गांड मराता फिरता? आज इतने दिनों के बाद कोई मस्त माल मिला है तो अपनी माँ चुदा रही है। फिर रीमा बोली कि लेकिन तुम इसको ऐसे तकलीफ़ तो नहीं दे सकते ना, कहीं कोई गड़बड़ हो गयी तो डॉक्टर के वहाँ कौन जाएगा? प्लीज भगवान के लिए आराम-आराम से करो, वरना हो सकता है आज के बाद ये हमारी नौकरी भी छोड़ दे। फिर तभी अजय बोला कि ठीक है, में आराम से करता हूँ और फिर अजय बहुत धीरे-धीरे धक्के मारने लगा। फिर कुछ देर में शांति की हालत ठीक हो गयी और अब में उसके बूब्स भी तो चूस रही थी। अब दो तरफ से मज़ा मिलने से उसको और भी ज़्यादा मज़ा आने लगा था। अब शांति बोली कि साहब जी अब आप ज़ोर लगाकर चोदिए, मुझे बहुत मज़ा आ रहा है, आआहह, उउफफफफफ्फ, कितना मज़ा आ रहा है? हाए। फिर उसके बाद अजय की तो जैसे लॉटरी निकल पड़ी और उसने अपने लंड से धक्कों की बौछार कर दी। अब पूरे रूम में शांति की मादक सिसकारियाँ ही गूँज रही थी। फिर जब मुझसे रहा नहीं गया तो मैंने उसकी सिसकारियाँ निकलते हुए उसके मुँह पर अपनी चूत रख दी, जिसे वो अपनी जीभ निकालकर लपलपाने लगी। फिर उसके बाद हमें जब कभी भी कोई मौका मिला, तो हमने खूब चुदाई की और खूब मजा किया ।।

धन्यवाद …

इस कहानी को Whatsapp और Facebook पर शेयर करें ...

Comments are closed.