✽ रोजाना नई हिन्दी सेक्स कहानियाँ ✽

loading...

बीवी की बड़ी बहन से चुदाई की ट्रेनिंग

0
loading...

प्रेषक : महेश …

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम महेश है, में पुणे का रहने वाला हूँ। यह स्टोरी मेरी और मेरी साली के बीच की है। यह एक सच्ची कहानी है, जो मेरी शादी के कुछ दिन पहले हुई थी। में उस वक़्त 26 साल का था, अच्छी पर्सनेलिटी और हाईट 5 फुट 8 इंच, वजन 80 किलोग्राम। मेरी शादी की बात चल रही थी और नासिक से एक प्रपोज़ल आया, उस लड़की के 6 बहनें थी और भाई नहीं था। फिर मैंने सोचा कि एक साथ 6 बीवियाँ मिलेगी। (एक पूरी और 6 आधी) फिर बाकी सब बातें पसंद आने पर शादी लगभग 4 महीने के बाद तय हुई। उन 7 बहनों में मेरी वाईफ चौथी है, उसकी सबसे बड़ी बहन उस वक़्त लगभग 28 साल की थी और मुंबई में रहती थी, उसके 2 साल का बेटा था और उसका पति दुबई में रहता था।

फिर मुझे सगाई के बाद एक बार मुंबई किसी काम से जाना पड़ा तो में अपना काम निपटाकर मेरी साली से मिलने चला गया तो वो मुझे देखकर सर्प्राइज़ हुई और बहुत खुश भी हुई। उसका 2BHK फ्लेट था और फिर मुझे दूसरे बेडरूम में शिफ्ट किया। फिर फ्रेश होने के बाद में हॉल में आया, तब तक 9 बजे गये थे और बच्चा सो गया था। उसे पता था कि में ड्रिंक्स लेता हूँ और उसके घर में विस्की की बोतल पड़ी थी, उसका पति जब भी मुंबई आता था तो 5-6 बोतल लेकर आता था। फिर मुझे बिना पूछे उसने पैग बना दिया। तो मुझे अचरज हुआ, लेकिन मैंने कहा कि दीदी में अकेले कभी नहीं लेता, क्या आप कंपनी दोगी? तो उसने भी ना नहीं की और अपने लिए एक पैग तैयार किया चियर्स और फिर हमने पीना शुरू किया।

फिर एक पैग होने के बाद दूसरा आया और हमारी बातें धीरे धीरे सेक्स के विषय पर आ गयी। फिर मैंने शरमाते हुए कहा कि मैंने तो सेक्स के बारे में सिर्फ पढ़ा है और कभी-कभी बी.एफ देखी है। फिर तभी वो मुस्कुराई और बोली कि जीजाजी कोई बी.एफ देखोंगे? तो में शॉक हो गया और बोला कि चलेगी। तो उसने शरारत भरी मुस्कुराहट से देखा और अब में भी उसकी इच्छा समझ गया था। फिर उसने डी.वी.डी पर एक सी.डी लगाई और जैसे ही फिल्म चालू हुई तो में उत्तेजित हो गया। अब मेरी लुंगी तन गयी थी और मेरा एक हाथ अपने सामान पर चला गया था। मेरी साली ने वो मूवी देखी हुई थी और अब वो बिल्कुल नॉर्मल सा बर्ताव कर रही थी। फिर तीसरा पैग आया और फिर हमने वो भी ख़त्म किया। अब तब तक मूवी आधी हो गयी थी। फिर में उठकर बाथरूम चला गया तो वापस आने पर मेरी साली ने वही शरारत भरी मुस्कान दी, तो में थोड़ा शर्मा गया और उसे देखने लगा। अब मेरी इच्छा हो रही थी, लेकिन हिम्मत नहीं हो रही थी, लेकिन अब वो समझ गयी थी।

फिर धीरे से वो मेरे पास आ गयी और चिपककर बैठ गयी। अब में और टाईट हो गया था। अब उसके भी तीन पैग हो चुके थे और उसने पूछा कि जीजाजी और कुछ चाहिए? अब में भी मूड में था और उससे पूछा कि क्या दोगी? अब वो भी मूड में थी और बोली कि जो आप माँगो। फिर तभी मैंने झटके से उसका हाथ पकड़ लिया। अब वो भी तैयार ही थी तो झटके से मेरे गली लग गयी और मुझे किस करने लगी। यह मेरा पहला अनुभव था और मुझे पता नहीं था कि किस कैसे करते है? अब मेरी साली को कुछ समझ में आ गया था कि में एकदम नया हूँ। फिर तभी उसने आहिस्ता से मुझे किस करना सिखाया। अब मुझे भी मज़ा आने लगा था। फिर हम दोनों उठकर बेडरूम में चले गये। फिर मैंने उसे गले लगा लिया, तो में उसकी छाती का दबाव महसूस करने लगा, वाह क्या मज़ा आ रहा था? अब इधर मेरा सामान टाईट हो गया था और उसके गाउन पर से उसके सामान को चुभ रहा था और अब वो भी मज़े लेने लगी थी।

loading...

फिर थोड़ी देर के बाद मैंने उसका गाउन उतार दिया। अब वो ब्रा और पेंटी में खड़ी थी। अब मुझे वो सीन तो बहुत मज़ेदार लग रहा था। फिर उसने भी मेरी शर्ट उतार दी और लुंगी भी खोल दी। अब मेरा फूला हुआ अंडरवियर देखकर उसके चेहरे का रंग बदल गया था। फिर तभी उसने झट से मेरे अंडरवेयर को पकड़ लिया और मसलने लगी। अब मुझे अजीब मज़ा आने लगा था। फिर मैंने भी उसकी ब्रा उतार दी, तो में उसके सुंदर-सुंदर बूब्स देखकर बहुत खुश हुआ। अब में उसके बूब्स को ज़ोर-जोर से दबाने लगा था। तो तभी वो बोली कि धीरे जीजाजी, जरा प्यार से। तो में बोला कि ओके डियर और फिर में धीरे- धीरे उसके बूब्स दबाने लगा। अब उसे भी मज़ा आने लगा था। फिर उसने मुझे लेटा दिया और खुद भी बगल में लेट गयी। अब में नीचे था और वो मेरे लेफ्ट साईड में थी, लेकिन उसकी छाती मेरी छाती पर थी। दोस्तों ये कहानी आप चोदन डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

फिर उसने धीरे से उठकर अपना लेफ्ट बूब्स मेरे मुँह में दिया और कहा कि चूसो जीजू, तो में उसके बूब्स को चूसने लगा। अब उसने उसका राईट बूब्स मेरे लेफ्ट हाथ में दे दिया था। अब उसकी आवाज निकलने लगी थी आआआहह। अब मुझे और मज़ा आने लगा था और अब में और मज़े से चूसने लगा था। फिर थोड़ी देर के बाद मैंने उसका दूसरा बूब्स अपने मुँह में लिया और जोर-जोर से चूसना कर दिया। अब उसकी आवाज और गहरी हो गयी थी आआहह, हम्मम्म। फिर कुछ देर के बाद उसने मेरा अंडरवियर उतार दिया और मुझे इशारा किया। तो मैंने भी उसका अंडरवेयर उतार दिया और उसके खूबसूरत बदन को नाईट लेम्प की रोशनी में देखने लगा। फिर वो आहिस्ता से मेरे बदन को चूमते, चाटते हुए नीचे हुई और झटके से मेरे लंड को अपने मुँह में ले लिया, अब मेरी बारी थी। फिर कुछ देर के बाद उसने अपनी दोनों टाँगे मेरी छाती के दोनों तरफ कर ली और मेरा लंड चूसने लगी।

loading...

अब हम 69 पोज़िशन में थे और फिर मैंने अपनी जीभ उसकी चूत में डाल दी तो मुझे कुछ नमकीन सा स्वाद आया, लेकिन मज़ा भी बहुत आया था। अब वो फिर से आवाजे करने लगी थी आहह, हम्मम्मम। फिर लगभग 10 मिनट के बाद वो सीधी हो गयी और मुझे अपने ऊपर ले लिया और बोली कि चलो जीजू अब कर लो। फिर तब मैंने अपना लंड उसकी चूत में अंदर डालने की कोशिश की। अब उसने अपनी दोनों टाँगे फैलाकर रखी थी, लेकिन मुझे छेद नहीं मिल रहा था। फिर वो अपनी आँखें बंद करके मुस्कुराई और मेरे लंड को अपने द्वार पर रखकर बोली कि पुश। तो मैंने एक झटका दिया तो मेरा लंड अंदर चला गया, लेकिन अब मुझे भी दर्द महसूस होने लगा था। फिर उसने अपने आपको थोड़ा ठीक किया और धीरे-धीरे झटके मारने लगी। अब में भी झटके मारने लगा था, अब हम दोनों को बहुत मज़ा आने लगा था।

फिर थोड़ी देर के बाद मेरी स्पीड बढ़ गयी और अब मुझे बहुत मज़ा आने लगा था और स्पीड बढ़ी और मज़ा और फिर आख़िरकार मैंने एक ज़ोर का झटका मारा तो तभी मैंने बहुत सारा पानी छोड़ दिया और वो भी शांत हो गयी, रियली यह एक बहुत शानदार अनुभव था। फिर लगभग 1 घंटे के बाद हम फिर से तैयार हो गये और अब में अनुभवी था। अब में ज़्यादा विश्वास से करने लगा था। अब उसकी प्यास भी बहुत दिनों के बाद बुझी थी। फिर लगभग 1 घंटे तक यह सब होता रहा और फिर यह सिलसिला लगभग 4-5 बार हुआ। फिर सुबह कब हुई? हमें कुछ पता ही नहीं लगा। अब आज भी जब भी हम मिलते है तो बहुत मजा करते है। अब वो भी बहुत खुश है और में भी खुश हूँ और तब से मुझे औरतें बहुत पसंद है ।।

धन्यवाद …

इस कहानी को Whatsapp और Facebook पर शेयर करें ...

Comments are closed.