✽ रोजाना नई हिन्दी सेक्स कहानियाँ ✽

loading...

बेटे ने किया चूत का उद्घाटन

0
loading...

प्रेषक : गीता …

हैल्लो दोस्तों, में एक विधवा औरत हूँ, मेरा नाम गीता जायसवाल है और में नेपाल में रहती हूँ। में काफ़ी गोरी, लंबी, स्मार्ट हूँ और मेरी चूत कई सालों से लंड के लिए तड़प रही है। में अपने बेटे के साथ अकेले रहती हूँ और अब मेरा बेटा जवान हो गया है। अब में अपनी चुदाई की स्टोरी लिख रही हूँ, अब में 52 साल की हो जाने से मेरी चूत का सहारा बस मेरी उंगलियां और गाजर, मोमबत्ती ही थे। फिर एक दिन मैंने अपने से छोटे बेटे रशु और उसकी वाईफ की चुदाई देख ली तो तब से मेरी आग और भड़क गयी। फिर मैंने अपने बेटे रशु को, जो अपनी गर्लफ्रेंड से सेक्स की बात कर रहा था, वो सुनी तो मेरी चूत गीली हो गयी। अब रशु अपनी गर्लफ्रेंड के मना करने से उदास हो गया था, तो मुझे मेरी चूत के लिए लंड मिलने का अवसर नज़र आ गया था।

फिर में रात को उसके कमरे में गयी और मैंने उसे बातों-बातों में गर्म कर दिया। अब वो बिल्कुल नंगा था और में केवल ब्रा में थी और उसके होंठ मेरी चूत पर थे। अब रशु मेरी चूत को अपने होंठो से दबाने लगा था। फिर उसने अपनी जीभ बाहर निकाली और मेरी चूत के छेद में फैरने लगा। अब मेरी आँखे बंद हो गयी थी और मेरी चूत एकदम गीली हो गयी थी। अब वो मेरी चूत के रस को चाटने लगा था, अब मेरी हालत बहुत खराब हो रही थी। फिर मैंने अपनी ब्रा उतारी और अपने दोनों हाथों से अपनी दोनों चूचीयों को दबाने लगी। अब मेरे मुँह से आआआहह अहह की आवाजे निकल रही थी और वो मेरी चूत को चाटे जा रहा था। फिर में पलंग पर बैठ गयी और अपनी दोनों टांगे चौड़ी कर ली, जिससे मेरी चूत का छेद और खुल गया। फिर रशु ने मेरी चूत के छेद में अपनी 2 उंगलियाँ घुसा दी और उन्हें अंदर बाहर करने लगा।

फिर वो मेरे होंठो को साथ में चूसने लगा तो मैंने कहा कि रशु तू तो बहुत मज़े दे रहा है, पहले भी किसी को चोदा है क्या? तो उसने कहा कि नहीं तो मम्मी। फिर मैंने कहा कि तो तू इतना एक्सपर्ट कैसे हो गया? बता ना चोदा है क्या? तो उसने कहा कि हाँ मम्मी, तो मैंने कहा कि म्‍म्म्ममममममम तभी, किसे चोदा है? तो उसने कहा कि अपने घर में जो कपड़े धोने आती है ना, उसे। फिर मैंने कहा कि  क्याआआआ? उसे कैसे पटा लिया? तो उसने कहा कि मैंने नहीं उसने ही मुझे पटाया है और चुदाई भी सिखाई है। फिर मैंने उससे कहा कि और भी किसी को चोदा है क्या? अब मेरी हालत और खराब हो रही थी और अब वो तेज़ रफ़्तार से अपनी उंगलियों को घुसा रहा था। तो उसने कहा कि बस एक कॉलगर्ल को भी चोदा है।

loading...

फिर उसने मेरी चूत में से अपनी उंगली निकालकर अपने दोनों हाथ मेरे बूब्स पर रख दिए और उनको आटे की तरह गूँथने लगा। अब मुझे बहुत मज़ा आ रहा था। अब पहली बार कोई और मेरे बूब्स दबा रहा  था, पहली बार किसी और ने मेरी चूत छुई थी और उसे चाटा था। फिर वो मुझे बूब्स दबाता हुआ कभी मेरे होंठो पर तो कभी गाल पर तो कभी गर्दन पर किस कर रहा था और में आआआअहह म्‍म्म्मममम कर रही थी। फिर उसने पूछा कि मम्मी आपने कभी पापा को छोड़कर किसी और से चुदाई करवाई है? तो मैंने कहा कि नहीं रे, तेरी मम्मी की चूत तड़प रही है, में आज इतने सालों के बाद चुदवाऊंगी, तू चोदेगा ना बेटा मुझे? तो उसने कहा कि हाँ मम्मी चोदूंगा। फिर वो खड़ा हुआ और फिर उसने मेरी टाँगे फैलाकर अपना लंड मेरी चूत के मुँह पर रखा और एक धक्का दिया तो उसका लंड थोड़ा सा ही अंदर गया था, लेकिन मेरी जान निकल गयी और में चिल्ला पड़ी उूउउइईई माँ में मर गयी, रशु क्या कर रहा है? तो उसने कहा कि तुम्हारी चूत का उद्घाटन कर रहा हूँ मम्मी।

loading...

फिर मैंने कहा कि मत कर मेरी चूत फट जाएगी। तो फिर उसने एक और धक्का दिया और उसका लंड आधा मेरी चूत में घुस गया। अब मेरी आँखो से आँसू निकल गये थे, फिर उसने पूछा कि मम्मी दर्द हो रहा है क्या? तो मैंने कहा कि हाँ रे बहुत दर्द हो रहा है। फिर उसने अपना लंड बाहर निकाला और बोला कि मम्मी इसे खूब चाटो और अपने थूक से पूरा गीला कर दो। फिर मैंने उसके लंड को खूब चूसा और अपना थूक लगा-लगाकर पूरा गीला कर दिया। फिर उसने मेरी चूत का छेद थोड़ा चौड़ा किया और मेरी चूत के छेद पर अपना लंड सेट करके ज़ोर से एक धक्का दिया तो अबकी बार उसका पूरा लंड मेरी चूत में घुस गया और मुझे ज़्यादा दर्द भी नहीं हुआ। दोस्तों ये कहानी आप चोदन डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

फिर रशु ने मेरी खूब चुदाई की और मैंने भी उसका खूब साथ दिया। अब वो ऊपर से धक्का लगा रहा था और में नीचे से अपनी गांड उछालकर उससे चुदवा रही थी और पता नहीं क्या-क्या बोल रही थी? चोदो मेरे रशु, मुझे खूब चोदो, मेरी चूत का चबूतरा बना दे, बेचारी अब तक गाजर से काम चलाती रही है, लेकिन अब नहीं, अब ये तेरा लंड रोजाना खाएगी। फिर उसने कहा कि हाँ मम्मी में भी रोजाना तुम्हारी चूत चोदूंगा, वो पूजा साली अपनी माँ चुदाए, वो अपनी चूत का बहुत घमंड दिखाती है, मेरी मम्मी की चूत के सामने उसकी चूत कुछ भी नहीं है और इस तरह हमारी चुदाई शुरू हुई। फिर थोड़ी देर के बाद हम दोनों शांत हो गये। फिर रशु ने मेरी चूत चोदने के बाद अपने लंड का पानी मेरे बूब्स पर डाल दिया, जिससे मैंने उनकी मालिश कर ली और फिर हम दोनों ने खूब इन्जॉय किया ।।

धन्यवाद …

इस कहानी को Whatsapp और Facebook पर शेयर करें ...

Comments are closed.