✽ रोजाना नई हिन्दी सेक्स कहानियाँ ✽

loading...

बहन की सहेली के साथ सेक्स

0
loading...

प्रेषक : राहुल …

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम राहुल है। में पिछले 4 महीने से चोदन डॉट कॉम का नियमित पाठक हूँ और इसकी काफ़ी स्टोरी पढ़ने के बाद मैंने भी ये प्लान बनाया कि क्यों ना में भी अपनी रियल सेक्स स्टोरी आपके साथ शेयर करूँ? तो फ्रेंड्स में आपको ज़्यादा बोर ना करते हुए सीधा स्टोरी पर आ जाता हूँ और एक ख़ास बात यह की में जो स्टोरी आपको बताने जा रहा हूँ वो रियल तो है ही, साथ ही ये घटना मेरे साथ सिर्फ़ 6 दिन पहले हुई है। फिर हुआ यह कि में अपने पी.सी पर बैठा ब्लू फिल्म देख रहा था। तो तभी कुछ देर में मेरे पापा आ गये तो मैंने सब बंद कर दिया। फिर वो बोले कि चलो आज सबको घुमाकर लाते है। तब मैंने सोचा कि अगर में गया तो सारा मज़ा बेकार हो जाएगा इसलिए मैंने जाने से मना कर दिया। फिर सब चले गये और अब में घर में अकेला था तो मैंने फिर से बी.एफ स्टार्ट कर दी। तभी मेरी बहन की फ्रेंड आई और मेरी बहन के बारे में पूछने लगी कि मेरी बहन कहाँ है? तो तब मैंने कहा कि सब बाहर गये है। तब उसने मुझसे पूछा कि तुम क्या कर रहे हो? तो तब मैंने कहा कि पी.सी पर बैठा था। तो तब वो बोली कि में अपना मैल चैक कर लूँ, तो मैंने हाँ कह दिया।

फिर मैंने कहा कि में जरा टॉयलेट से आता हूँ। फिर जब में वापस आया तो मैंने देखा कि मैंने रियल प्लेयर बंद नहीं किया था और अब उषा सब कुछ देख रही थी। फिर में उसे खिड़की से देखता रहा, उसका चेहरा कंप्यूटर की तरफ होने से उसने पीछे नहीं देखा था कि में खड़ा हूँ। अब वो सब कुछ देख रही थी और बहुत गर्म हो चुकी थी। तब इतने में उसने अपने बूब्स ऊपर से दबाने शुरू कर दिए। अब मेरा लंड खड़ा हो चुका था और अब में तो पक्का फ़ैसला कर चुका था कि हो ना हो, ये आज मुझसे चुदकर ही जाएगी। फिर में थोड़ा और पीछे चला गया और हल्की सी आवाज़ निकाली। तो वो समझ गयी कि में आ रहा हूँ और फिर उसने प्लेयर बंद कर दिया।

फिर में आया और उससे कहा कि मैल चैक कर लिए। तो वो बोली कि हाँ कर लिए। फिर मैंने हिम्मत करके उससे कह ही दिया कि उषा तुम जो देख रही थी, वो में पीछे खिड़की के पास खड़ा होकर देख रहा था। तो वो शर्मा गयी और कुछ नहीं बोली। तब में समझ गया कि मामला फिट हो गया है। फिर मैंने दुबारा से बी.एफ स्टार्ट कर दी। अब हम दोनों बी.एफ देखने लगे थे। अब वो तो गर्म हो ही चुकी थी, तो तभी मैंने कहा कि देखती ही रहोगी या फिर तो वो हल्की सी मुस्कुराहट लाई। फिर मैंने बिना टाईम वेस्ट किए उसकी जाँघ पर अपना एक हाथ रख दिया। तब उसने मेरे हाथ को पकड़ लिया। फिर में अपने हाथ को धीरे-धीरे उसके ऊपर की तरफ लाने लगा और उसके बूब्स को दबाना स्टार्ट किया और अब उसे किस करने लगा था।

loading...

फिर मैंने उसका एक हाथ अपने लंड पर रख दिया, तो वो उसके साथ खेलने लगी। फिर करीब 5 मिनट तक हम किस करते रहे। फिर में उसे बेड पर ले आया और धीरे-धीरे उसके कपड़े उतारने लगा, पहले उसका सूट उतारा तो मुझे उसकी ब्रा दिखने लगी और फिर मैंने उसकी ब्रा भी उतार दी। अब उसके मुँह से अजीब-अजीब सी आवाज़ें निकलने लगी थी, मानो कह रही हो कि मेरी चूत को जल्दी से शांत करो।  अब में उसके दूध से भरे बूब्स देखकर दंग रह गया था। फिर मैंने उसको चाटना शुरू कर दिया। तो तब वो बोली कि पहले कपड़े तो उतार लो। फिर मैंने उसकी सलवार का नाड़ा खोल दिया और उसकी सलवार भी उतार दी, उसने काले रंग की पेंटी पहनी थी। फिर मैंने उसे मेरे कपड़े उतारने को कहा तो उसने पहले मेरी पेंट और फिर कच्चा उतारा। अब में सिर्फ बनियान में था और बनियान मैंने खुद उतार दी थी। अब हम दोनों बिल्कुल नंगे थे। फिर पहले मैंने उसकी चूत चाटनी शुरू कर दी। तब वो बोली कि ये क्या कर रहे हो? तो मैंने कहा कि असली मज़ा तो इसी में है। अब उसके मुँह से सिसकारियाँ निकलने लगी थी और वो कहने लगी कि खा जाओ, फाड़ डालो मेरी चूत को और ज़ोर से, आआहह, हम्म्म्मम्म्म।

फिर मैंने अपना 7 इंच लम्बा लंड उसके हाथ में दे दिया और कहा कि इसे चाटो। उसने मेरा लंड फटाफट से अपने मुँह में ले लिया और चाटने लगी थी। अब मेरे लंड से हल्का-हल्का पानी निकलने लगा था। तब मैंने कहा कि इसे पी जाओ, तो वो मेरे लंड का पानी पीकर बोली कि खट्टा-खट्टा है। फिर में उसके पैरों के पास गया और उसकी दोनों टागें फैला दी और उससे कहा कि अपनी चूत का छेद खोलो। तो उसने अपनी चूत का छेद और चौड़ा कर दिया। फिर मैंने अपना लंड जैसे ही उसकी चूत पर रखा तो उसके मुँह से आआआआ की आवाज निकल गयी। फिर मैंने एक झटका दिया तो मेरा आधा लंड उसकी चूत में अटक गया और वो चिल्ला पड़ी और बोली कि बाहर निकालो, प्लीज बहुत दर्द हो रहा है। फिर में कुछ देर तक हल्के-हल्के झटके देता रहा। अब उसकी चूत में से खून निकालने लगा था, लेकिन उसने नहीं देखा था। दोस्तों ये कहानी आप चोदन डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

फिर जब वो पूरे जोश में आ गयी तो तब मैंने एक झटका और दिया। अब मेरा पूरा 7 इंच का लंड उसकी चूत में चला गया था और वो फिर से चिल्लाई, लेकिन मैंने उसके लिप्स पर अपने लिप्स रख दिए थे और उसे चिल्लाने नहीं दिया था। अब वो और गर्म हो गयी थी। फिर उसके मुँह से आवाज निकली और घुसाओ और ज़ोर से। तब मैंने अपनी स्पीड और बढ़ा दी। अब वो भी अपने चूतड़ उठा-उठाकर मेरा साथ देने लगी थी और फिर हमारी आवाज़ें निकलती रही आआअहह, हाए मार डाला, उउम्म्म्मम, बहुत अच्छे, ऊऊऊऊओ और ज़ोर से। अब मैंने उसका पूरा छेद फाड़ डाला था। फिर करीब आधे घंटे के बाद उसका पानी निकल गया, लेकिन में उसको 5 मिनट तक और चोदता रहा। फिर थोड़ी देर के बाद मेरा भी पानी निकल गया। अब मैंने अपना सारा पानी उसके मुँह में डाल दिया था और उसे पिला दिया।

फिर मैंने उसे अपना लंड चाटने को कहा। तो वो बोली कि अब चुद तो में गयी हूँ, अब क्या है? तो तब मैंने कहा कि दुबारा मेरा लंड खड़ा करो। अब हम दोनों 69 की पोज़िशन में हो गये थे। अब मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया था। फिर मैंने उसे घोड़ी बना दिया और पीछे से उसकी गांड में एक हल्का सा झटका दिया। तब उसकी तो मानो जैसे जान ही निकल गयी हो, मगर में हटा नहीं। फिर थोड़ी देर तक में ऐसे ही रहा। फिर थोड़ी देर के बाद मैंने एक जबरदस्त झटका दिया और उसका मुँह अपने हाथ से बंद कर दिया। अब उसकी हालत तो ऐसी हो गयी थी मानो वो मरने ही वाली हो। फिर में ऐसे ही झटके मारता रहा। अब वो भी मज़े लेने लगी थी और आआआआआआहह, आआआआआहह, घुसाओ, फाड़ दो और अपना पूरा लंड मेरी चूत में घुसा दो और ज़ोर से जैसे बोले जा रही थी। फिर करीब 10 मिनट के बाद मैंने अपना पानी छोड़ दिया और अपना सारा पानी उसकी गांड में ही छोड़ दिया था। फिर में उसे किस करता रहा। फिर थोड़ी देर तक हम ऐसे ही लेटे रहे। फिर उस दिन से मैंने उसे चोदने का सिलसिला रोजाना शुरू कर दिया, जो शायद अब उसकी शादी पर ही खत्म होगा ।।

धन्यवाद …

loading...
इस कहानी को Whatsapp और Facebook पर शेयर करें ...

Comments are closed.